home page

शरीर के इस हिस्से में भूलकर भी मत बनवा लेना टैटू, वरना होगा इतना दर्द की निकल जाएगा पेशाप

टैटू का चलन आज के समय में बहुत आम हो गया है। युवा हो या बुजुर्ग हर कोई अपनी पसंद का टैटू (Tattoo) शरीर के किसी न किसी हिस्से पर बनवाने का शौक रखता है।
 | 
tattoo making tips

टैटू का चलन आज के समय में बहुत आम हो गया है। युवा हो या बुजुर्ग हर कोई अपनी पसंद का टैटू (Tattoo) शरीर के किसी न किसी हिस्से पर बनवाने का शौक रखता है। लेकिन इसकी शुरुआत कब और कैसे हुई, यह एक दिलचस्प कहानी है। इस आर्टिकल में हम टैटू के इतिहास से लेकर आधुनिक समय में इसके चलन तक की यात्रा को डिटेल में जानेंगे।

टैटू का प्राचीन इतिहास

इंसानों के बीच टैटू की प्रथा सदियों पुरानी है। प्राचीन समय में टैटू (Ancient Tattoo) का इस्तेमाल विभिन्न संस्कृतियों में धार्मिक अनुष्ठानों, सामाजिक स्थिति को दर्शाने या युद्ध में वीरता के प्रतीक के रूप में किया जाता था। इसके अलावा कुछ समुदायों में टैटू को चिकित्सा के एक रूप के तौर पर भी देखा जाता था।

टैटू और फैशन

आधुनिक समय में टैटू एक फैशन स्टेटमेंट (Fashion Statement) बन चुका है। युवाओं में विशेष रूप से टैटू के प्रति उत्साह देखा जाता है। लोग विभिन्न डिजाइनों और स्याही के रंगों का इस्तेमाल करके अपने शरीर पर अनोखी कलाकृतियाँ (Unique Artwork) बनवाते हैं। टैटू अब पर्सनालिटी को व्यक्त करने का एक तरीका बन चुका है।

रेल की पटरी पर सिक्का रख दे तो क्या सच में पलट जाएगी ट्रेन, जान लो असली सच्चाई

टैटू बनवाने की प्रक्रिया और दर्द

टैटू बनवाने की प्रक्रिया में दर्द होना स्वाभाविक है, क्योंकि इस दौरान सुई की मदद से स्याही को त्वचा की सतह के नीचे डाला जाता है। बीबीसी की एक रिपोर्ट के अनुसार शरीर के जिन हिस्सों में चर्बी कम और तंत्रिकाएं अधिक होती हैं, वहां टैटू बनवाना अधिक दर्दनाक (Painful) होता है।  हमारी बॉडी में ऐसे हिस्से पांव, टखने, आर्म पिट्स, कंधे और पसलियों के पास का हिस्सा होता है.

व्यक्तिगत दर्द सहनशीलता

दर्द की अनुभूति व्यक्ति के दर्द सहने की क्षमता (Pain Tolerance) पर निर्भर करती है। कुछ लोग दर्द को अधिक आसानी से सहन कर लेते हैं, जबकि कुछ के लिए यह असहनीय हो सकता है।

दुनिया का सबसे पुराना टैटू

इतिहास के पन्नों में हमें दुनिया का सबसे पुराना टैटू उत्जी या हिम मानव (Ötzi the Iceman) के शरीर पर मिला। इस खोज ने टैटू की प्राचीनता और इसके महत्व को और भी प्रमाणित किया।