home page

Delhi-Dehradun Expressway: भारत में जंगल के ऊपर से होकर गुजरेगा ये देश का नया और अनोखा एक्सप्रेसवे, पूल के ऊपर से गुजरेगी गाड़ियां तो नीचे से गुजरेंगे जंगली जानवर

Delhi-Dehradun Expressway: भारतीय विकास यात्रा में सड़कों का निर्माण (Road Construction) महत्वपूर्ण स्थान रखता है।
 | 
delhi dehradun expressway news

Delhi-Dehradun Expressway: भारतीय विकास यात्रा में सड़कों का निर्माण (Road Construction) महत्वपूर्ण स्थान रखता है। देशव्यापी सड़क नेटवर्क (National Highway) के विस्तार ने न केवल आवागमन को सुगम बनाया है बल्कि आर्थिक प्रगति (Economic Growth) को भी गति प्रदान की है। इसी कड़ी में दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे (Delhi-Dehradun Expressway) एक नया आयाम जोड़ने जा रहा है, जिससे दिल्ली से देहरादून की दूरी महज ढाई घंटे में तय की जा सकेगी।

वाइल्डलाइफ कॉरिडोर

इस एक्सप्रेसवे की एक अनूठी विशेषता इसके माध्यम से बनाया जा रहा वाइल्डलाइफ कॉरिडोर (Wildlife Corridor) है। इस 12 किलोमीटर लंबे कॉरिडोर के निर्माण से जंगली जीवन (Wildlife) को सुरक्षित आवाजाही की सुविधा मिलेगी। इस अनोखी पहल से सफर करने वाले यात्री जंगल के बीचों-बीच से गुजरते हुए हाथी, शेर जैसे वन्य जीवों को भी देख सकेंगे, जो उन्हें चिड़ियाघर जैसा अनुभव प्रदान करेगा।

डिजाइन और निर्माण

इस एक्सप्रेसवे के डिजाइन (Design) और निर्माण कार्य में NHAI और वाइल्डलाइफ इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Wildlife Institute of India) की साझेदारी देखने को मिलती है। इस ग्रीन कॉरिडोर (Green Corridor) की खासियत यह है कि यह राजाजी नेशनल पार्क (Rajaji National Park) के नजदीक से गुजरता है.

जहां वन्यजीवों की स्वतंत्र आवाजाही सुनिश्चित की जाएगी। यह एशिया का सबसे बड़ा वाइल्डलाइफ कॉरिडोर (Largest Wildlife Corridor in Asia) होगा, जिसका निर्माण सिंगल पिलर पर किया जा रहा है ताकि प्राकृतिक सौंदर्य (Natural Beauty) और पारिस्थितिकी तंत्र (Ecosystem) को कम से कम नुकसान पहुंचे।

टेक्नोलॉजी और पर्यावरण का मेल

इस एक्सप्रेसवे के निर्माण में मॉडर्न तकनीक (Modern Technology) और पर्यावरण संरक्षण (Environmental Conservation) के मानदंडों का ध्यान रखा जा रहा है। 571 पिलर्स पर बने इस कॉरिडोर के प्रत्येक पिलर की दूरी 21 मीटर रखी गई है.

जिससे जंगल में कंक्रीट के उपयोग को कम से कम किया जा सके। इस प्रकार यह परियोजना विकास और पर्यावरण के बीच सामंजस्य (Harmony between Development and Environment) बिठाने का एक उदाहरण पेश करती है।