home page

Business Idea: घर बैठे बैठे कम लागत में शुरू कर सकते है आलू चिप्स बनाने का बिजनेस, हर महीने होगी बंपर कमाई

कोरोनावायरस महामारी के बाद लोगों को अपने कार्यों को पूरा करने की जरूरत है। यदि वह काम घर बैठे करता है तो यह सुहागा की तरह है। आज हम आपको आलू चिप्स का व्यापार बताने जा रहे हैं।
 | 
You can start the business of making potato chips at low cost sitting at home.

कोरोनावायरस महामारी के बाद लोगों को अपने कार्यों को पूरा करने की जरूरत है। यदि वह काम घर बैठे करता है तो यह सुहागा की तरह है। आज हम आपको आलू चिप्स का व्यापार बताने जा रहे हैं। बाजार में कई कंपनियां चिप्स बनाकर बेचती हैं। इसके व्यापार से कई बड़ी कंपनियां बहुत अधिक लाभ कमा रही हैं। घर में चिप्स बनाकर बेचने से एक लंबी अवधि का व्यापार किया जा सकता है।

इस व्यापार के लिए कच्ची सामग्री में विभिन्न प्रकार के आलू (जैसे साधारण, मीठा आलू, आदि), चिप्स बनाने के बर्तन, ताजे तेल, नमक और मिर्च पाउडर शामिल हैं।

मूल्य (Price)

नियमित रूप से एक क्विंटल साधारण आलू रू. 1200 में बिकता है। यदि आप मीठे आलू के चिप्स बनाना चाहते हैं, तो अधिक पैसे खर्च करने के अलावा अधिक लाभ भी मिलेगा। 4600 रु. प्रति क्विंटल मीठे आलू का मूल्य है। चिप्स बनाने के लिए एक लीटर तेल 120 रुपये खर्च होता है। मिर्च पाउडर 180 रुपए प्रति किलोग्राम और नमक 18 रुपए प्रति किलोग्राम है।

घर में बैठे चिप्स बनाने की मशीनरी 

इस काम को जल्दी करने के लिए चिप्स बनाने की मशीन का उपयोग किया जा सकता है। पोटैटो सस्लैसिंग मशीन इसका उपयोग करती है। यदि आप इस व्यवसाय को बड़े पैमाने पर शुरू करना चाहते हैं, तो आपको बड़ी मशीन की आवश्यकता हो सकती है, हालांकि इसे छोटी मशीन या हैण्ड स्लाइसर से भी शुरू किया जा सकता है।

व्यापार के कुल खर्च 

इस सौदे की कुल लागत 80,000 से 1,00,000 रुपये है। यदि आप मशीन नहीं बैठाना चाहते हैं तो यह लागत बहुत कम हो जाएगी, किंतु प्रोडक्शन घटने से लाभ भी घटता है। व्यापार को कम से कम 10,000 रुपये में शुरू कर सकते हैं अगर वह छोटा है।

घर बैठे चिप्स बनाने काबिज़नेस रजिस्टर करें 

व्यापार का खाद्य पदार्थ होने के कारण रजिस्ट्रेशन जरूरी है। भारत सरकार के एमएसएमई के अंतर्गत अपना व्यवसाय रजिस्टर करा सकते हैं। इसके अलावा आपको ट्रेड लाइसेंस प्राप्त करना होगा। इसके बाद आपको अपने व्यवसाय के लिए बैंक अकाउंट और पैन कार्ड बनाने की जरूरत होगी। सरकार के खाद्य विभाग में चिप्स की जांच करके FSSAI का लाइसेंस भी प्राप्त करना होगा।

घर बैठे चिप्स बनाने का फायदा

इस सौदे से बड़ा लाभ मिल सकता है। लाभ चिप्स की क़्वालिटी पर निर्भर करता है। बाजारों में बहुत कम मात्रा में चिप्स अक्सर दस रुपए के पैकेट में भी मिलते हैं, किन्तु इसके बाद भी, उनकी सही गुणवत्ता की वजह से उनकी बिक्री बहुत आसानी से चल रही है और लोग इसे खरीद भी रहे हैं। यदि आप मशीन का उपयोग करते हैं, तो आपको हर महीने 30 हजार से 40 हजार रुपये का लाभ मिल सकता है।