home page

रात के इतने बजे के बाद ट्रेन का TTE नही चेक कर सकता यात्री का टिकट, रेल्वे का ये नियम आता है बहुत काम

भारत में लंबी दूरियों का सफर (Long-Distance Travel) तय करने के लिए अधिकतर लोग रेलवे (Railway) का सहारा लेते हैं।
 | 
ticket checking rules

भारत में लंबी दूरियों का सफर (Long-Distance Travel) तय करने के लिए अधिकतर लोग रेलवे (Railway) का सहारा लेते हैं। भारतीय रेलवे (Indian Railways) न केवल दुनिया की चौथी सबसे बड़ी रेल नेटवर्क है बल्कि यह हर दिन लाखों यात्रियों की यात्रा को आरामदायक और सुविधाजनक बनाती है।

टिकट चेकिंग के नियम और यात्री सुविधा

भारतीय रेलवे में टिकट चेकिंग (Ticket Checking) की प्रक्रिया एक अनिवार्य काम है, जो सुनिश्चित करती है कि प्रत्येक यात्री के पास यात्रा करने का वैध टिकट हो। हालांकि यात्रियों की सुविधा और आराम को ध्यान में रखते हुए रेलवे ने कुछ विशेष नियम निर्धारित किए हैं। इन नियमों के अनुसार रात के 10 बजे से सुबह के 6 बजे तक टिकट चेकिंग की प्रक्रिया नहीं की जाती, ताकि यात्रियों को उनकी नींद में खलल न पड़े।

यात्रियों के लिए आराम का समय

रात्रिकालीन समय (Night Time) को यात्रियों के आराम के लिए सुरक्षित रखा गया है। इस दौरान यात्रियों से उम्मीद की जाती है कि वे तेज संगीत न बजाएं और न ही अन्य यात्रियों की नींद में व्यवधान डालें। यह नियम न केवल यात्रा के दौरान बल्कि प्लेटफॉर्म (Platform) पर भी लागू होता है।

टिकट चेकिंग और यात्रियों के अधिकार

रेलवे द्वारा तय किए गए इन नियमों का मुख्य उद्देश्य यात्रियों को एक सुखद और आरामदायक यात्रा प्रदान करना है। ये नियम यात्रियों के अधिकारों (Passenger Rights) की रक्षा करते हैं और साथ ही साथ यात्रा के दौरान उनके आराम को सुनिश्चित करते हैं।