आर्मी से रिटायरमेंट के बाद First AC से घर पहुंचा कुत्ता, विडयो वायरल हुआ तो लोग कर रहे सैल्युट

By Vikash Beniwal

Published on:

समाज में सम्मान पाने के लिए योगदान का महत्व होता है चाहे वह इंसान हो या जानवर। हाल ही में चर्चा में आए विभिन्न घटनाक्रमों से पता चलता है कि किस प्रकार जानवरों को भी उनके असाधारण योगदान के लिए सम्मान और आदर मिल रहा है। चाहे वो ऑस्कर अवार्ड शो में एक डॉग का जलवा हो या वर्मोंट स्टेट यूनिवर्सिटी से एक बिल्ली को मिली मानद उपाधि सम्मान की यह कहानियां अनोखी हैं।

मेरू का सफर

भारतीय सेना के एक बहादुर डॉग मेरू का पोस्ट रिटायरमेंट सम्मान विशेष चर्चा का विषय बना हुआ है। मेरू जिसने अपनी सेवाओं से न केवल अपने संचालकों का बल्कि पूरे देश का दिल जीता अब अपनी रिटायरमेंट के बाद मेरठ स्थित डॉग्स रिटायरमेंट होम में आरामदायक जीवन बिताएगा। उसे यह विशेष यात्रा ट्रेन के फर्स्ट एसी कोच में सफर करते हुए प्रदान की गई जो कि उसकी लंबी और समर्पित सेवा के प्रति आभार प्रकट करता है।

रक्षा मंत्रालय की पहल

यह व्यवस्था रक्षा मंत्रालय की एक नई पहल के अंतर्गत की गई है जिसमें सर्विस डॉग्स को उनके संचालकों के साथ एसी फर्स्ट क्लास में यात्रा करने की अनुमति दी गई है। इस पहल का मुख्य उद्देश्य उन जानवरों को सम्मान देना है जिन्होंने अपनी सेवाओं से देश की रक्षा में अहम योगदान दिया है।

मेरू की विरासत

मेरू की कहानी ने न केवल उसके संचालकों और सेना के सदस्यों का दिल जीता है, बल्कि सामाजिक मीडिया पर इस कहानी को बड़ी संख्या में लोगों ने सराहा है। उसकी यात्रा और सम्मान युवा पीढ़ी को यह सिखाता है कि समर्पण और सेवा की भावना से बड़ा कोई धर्म नहीं होता। मेरू के सम्मान में जो आदर प्रकट किया गया है वह हमें यह बताता है कि प्रत्येक जीव की गरिमा और उसके योगदान को समझना और सराहना चाहिए।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.