home page

60ML शराब पीने के बाद हमारे शरीर में आते है ये बड़े फर्क, हर रोज पीने वालों को पता होनी चाहिए ये बात

अक्सर हम पढ़ते हैं कि थोड़ी मात्रा में शराब पीना सेहत के लिए लाभकारी होता है, वहीं कुछ अध्ययन इसे पूरी तरह से नकारते हैं।
 | 
alcohol-what-happens-by-drinking-1-peg-ie-(60-ml

अक्सर हम पढ़ते हैं कि थोड़ी मात्रा में शराब पीना सेहत के लिए लाभकारी होता है, वहीं कुछ अध्ययन इसे पूरी तरह से नकारते हैं। इस विवाद के बीच आइए जानते हैं कि वास्तव में शराब का हमारे शरीर पर विशेष रूप से लिवर पर क्या प्रभाव पड़ता है।

लिवर पर शराब के प्रभाव की व्याख्या

शराब हमारे शरीर में जाकर सीधे लिवर पर असर करती है क्योंकि लिवर शरीर में जाने वाले तरल पदार्थों को संसाधित करने का काम करता है। लिवर की सीमित क्षमता के कारण ज्यादा मात्रा में शराब का सेवन लिवर के लिए हानिकारक सिद्ध होता है। इससे एसिटाल्डिहाइड नामक एंजाइम उत्पन्न होता है जो लिवर को क्षति पहुंचाता है।

लिवर खराब होने की प्रक्रिया

शराब के सेवन से लिवर में विभिन्न चरणों में क्षति होती है। पहले चरण में हैवी ड्रिंकिंग से लिवर के आसपास फैट जमा होने लगता है, जिसे फैटी लिवर कहा जाता है। दूसरे चरण में एल्कोहलिक हेपाटाइटिस हो सकता है, जिसमें लगातार शराब के सेवन से लिवर में सूजन और घाव होने लगती है। आखिरी चरण में लिवर सिरोसिस हो सकता है, जो लिवर के फंक्शन को गंभीर रूप से प्रभावित करता है।

शराब का सेवन और सेहत पर अन्य प्रभाव

शराब पीने के नुकसान सिर्फ लिवर तक सीमित नहीं हैं। इससे पैक्रियाटाइटिस, हाई बीपी, कई प्रकार के कैंसर, मोटापा, नर्व डैमेज और स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। इसलिए शराब के सेवन को हेल्थी लाइफस्टाइल के लिए एक बड़ी बाधा माना जाता है।

क्या थोड़ी मात्रा में शराब सुरक्षित है?

डॉ. राम आशीष के अनुसार शराब की मात्रा चाहे जितनी भी हो, लिवर पर इसका प्रभाव पड़ता है। यहां तक कि अगर आप साल में कुछ बार ही शराब पीते हैं, तो भी इसका शरीर पर कोई विशेष प्रभाव नहीं पड़ता, बशर्ते आपको पहले से कोई लिवर संबंधी समस्या न हो। हालांकि स्वास्थ्य के लिए सर्वोत्तम विकल्प यही है कि शराब का सेवन न किया जाए।