home page

भारत के 6 ऐसे मंदिर जहां गैर हिंदुओं की एंट्री है बैन, केवल हिंदू ही कर सकते है दर्शन

मद्रास हाई कोर्ट की मदुरे पीठ ने मंगलवार को तमिलनाडु सरकार को एक बड़ा फैसला सुनाया. यह ऐतिहासिक फैसला मदुरे पीठ की जस्टिस एस. श्रीमती ने डी. सेंथिल कुमार की याचिका पर सुनाया.
 | 
Sree Padmanabhaswamy Temple

मद्रास हाई कोर्ट की मदुरे पीठ ने मंगलवार को तमिलनाडु सरकार को एक बड़ा फैसला सुनाया. यह ऐतिहासिक फैसला मदुरे पीठ की जस्टिस एस. श्रीमती ने डी. सेंथिल कुमार की याचिका पर सुनाया. याचिका थी कि हिंदू धर्म और धर्मार्थ बंदोबस्ती द्वारा कुछ हिंदू मंदिरों से यह बोर्ड हटाने के लिए कहा गया था

कि गैर हिंदुओं का कोड़ीमारम अर्थात ध्वज क्षेत्र में प्रवेश वर्जित है. कोर्ट ने फैसला देते हुए कहा कि हिंदुओं को भी अपने धर्म का पालन करने का पूरा अधिकार है. इस ऐतिहासिक फैसले के बाद देश भर में इसकी चर्चा हो रही है और देश भर में ये मंदिर प्रसिद्ध हो रहे हैं. तो चलिए जानते हैं आखिर कौन से हैं यह मंदिर।

जगन्नाथ पुरी मंदिर, पुरी 

इस मंदिर में रोजाना लाखों की संख्या में श्रद्धालु आते हैं. यहां पर विदेशी पर्यटकों का भी प्रवेश वर्जित है. साथ ही गैर हिन्दू भी इस मंदिर में प्रवेश नहीं कर सकते. यह फैसला मुसलमानों द्वारा मंदिर पर हमले के बाद लिया गया था.

कपालेश्वर मंदिर, चेन्नई

यह मंदिर सातवीं शताब्दी का प्रसिद्ध शिव मंदिर है.यह मंदिर में द्रविड़ सभ्यता का प्रमुख शिव का मंदिर है. इसमें गैर हिन्दुओ और विदेशी पर्यटकों का प्रवेश वर्जित  है.

कामाक्षी मंदिर, कांचीपुरम

कामाक्षी अम्मन मंदिर दक्षिण के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है. यहां पर माता पार्वती के कामाक्षी रूप की पूजा की जाती है. इसमें भी गैर हिन्दुओ का प्रवेश वर्जित है.

गुरुवायुर मंदिर, त्रिशूर

इस मंदिर का इतिहास लगभग 5000 साल पुराना है और यह भी एक ऐतिहासिक मंदिर है, जहां श्री कृष्ण के बाल रूप की पूजा की जाती है.

पद्मनाभस्वामी मंदिर, केरल

इस मंदिर में भगवान विष्णु की पूजा की जाती है और कुछ समय पहले यह मंदिर सुर्खियों में था. इसके पीछे का कारण इस मंदिर से निकलने वाला खजाना था. आपको बता दे इस मंदिर में भी गैर हिंदुओं का प्रवेश वर्जित है.

लिंगराज मंदिर, भुवनेश्वर

यह मंदिर अपनी खूबसूरत स्थापत्य शैली के लिए बहुत अधिक प्रसिद्ध है. इस मंदिर में भी गैर हिंदुओं और विदेशियों का प्रवेश एकदम वर्जित है.