इन 5 चीजों को लेकर ट्रैफिक पुलिस नही करती कोई चालान, गलत जानकारी के चलते लोग उठाते है परेशानी

By Vikash Beniwal

Published on:

आज के डिजिटल युग में इंटरनेट ने जानकारी के प्रसारण को अत्यधिक तेज कर दिया है। चाहे वह व्यक्तिगत संदेश हो या वैश्विक समाचार सब कुछ कुछ ही सेकंडों में हमारी स्क्रीन तक पहुंच जाता है। इसकी सहायता से दुनिया भर के घटनाक्रमों पर नजर रखना संभव हो गया है। हालांकि इस तेजी का एक दूसरा पहलू यह भी है कि मिसइंफॉर्मेशन भी उतनी ही तेजी से फैलती है।

यातायात नियमों के बदलाव और उत्पन्न हुई मिसइंफॉर्मेशन

सन् 2019 में भारतीय यातायात नियमों में महत्वपूर्ण बदलाव किए गए थे जिसमें उल्लंघन करने वालों पर बड़े जुर्माने का प्रावधान शामिल था। इस परिवर्तन के साथ ही कई गलत जानकारियां भी लोगों के बीच फैलने लगीं। आइए नजर डालते हैं यातायात चालान से जुड़े पांच ऐसे मिथकों पर जिन्हें अक्सर सच मान लिया जाता है।

चालान नियमों से जुड़े 5 टिप्स

आधी बांह की शर्ट पहनकर वाहन चलाना: यह माना जाता है कि अगर कोई आधी बांह की शर्ट पहनकर वाहन चला रहा है तो उस पर चालान काटा जा सकता है परंतु यह बिलकुल गलत है।
लूंगी-बनियान में वाहन चलाना: ऐसे पहनावे में वाहन चलाने पर भी किसी प्रकार का चालान नहीं होता, यह केवल एक मिथक है।
गाड़ी में एक्स्ट्रा लाइट न रखना: यद्यपि यह उचित सुरक्षा उपाय है लेकिन इसके लिए चालान का कोई प्रावधान नहीं है।
गाड़ी का शीशा गंदा होने पर: सफाई अवश्य करनी चाहिए लेकिन इसे लेकर कोई चालान नहीं होता।
चप्पल पहनकर वाहन चलाना: यह भी एक आम मिथक है लेकिन यातायात नियमों में इसके लिए कोई जुर्माना नहीं है।

नितिन गडकरी का स्पष्टीकरण

इन मिथकों के बारे में भ्रांतियाँ दूर करने के लिए खुद भारतीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने 2019 में ट्वीट करके स्पष्टीकरण दिया था। उन्होंने साफ किया कि उपरोक्त सभी परिस्थितियों में चालान काटने का कोई प्रावधान नहीं है। इस प्रकार की स्पष्ट और निश्चित जानकारी इंटरनेट पर मिसइंफॉर्मेशन को रोकने के लिए बेहद आवश्यक है।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.