गाय और भैंस के बच्चा देने के बाद इतने घंटे होते है बेहद खास, पशुपालक इन बातों का रख सकते है खास ध्यान

By Vikash Beniwal

Published on:

गाय और भैंस के प्रसव का समय उनकी देखभाल और स्वास्थ्य प्रबंधन की कसौटी होता है। आमतौर पर भैंस का गर्भकाल 310 से 315 दिनों का होता है और प्रसव की प्रक्रिया में लगभग तीन से चार घंटे का समय लगता है। यह छोटी सी अवधि गर्भकाल के दौरान की गई देखभाल की सफलता को परखती है।

प्रसव स्थान की तैयारी

प्रसव के समय की तैयारी में प्रसव स्थल की साफ-सफाई और तैयारी शामिल है। प्रसव कक्ष को गंदगी से मुक्त रखना चाहिए और फर्श को समतल और साफ बनाए रखना चाहिए ताकि संक्रमण का खतरा कम हो। प्रसव कक्ष में फिनायल का घोल या चूने का उपयोग करने की सलाह दी जाती है ताकि बैक्टीरियल संक्रमण को रोका जा सके।

प्रसव के बाद के उपाय

प्रसव के बाद यह महत्वपूर्ण है कि भैंस को जल्दी से जेर डालने के लिए उत्तेजित किया जाए। अगर जेर नहीं डालती है तो घरेलू उपाय जैसे कि गुड़ और अजवाइन का घोल देना चाहिए। यह समय-समय पर किया जाना चाहिए ताकि पशु स्वस्थ रहे और जल्दी से उसकी स्वास्थ्य बहाली हो।

अनुसंधान संस्थान से जानकारी

केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान हिसार की वेबसाइट पर जाकर भी पशुपालक प्रसव से संबंधित अधिक जानकारी ले सकते हैं। यह जानकारी पशुपालकों को अधिक सही रहती है और उन्हें सही देखभाल और प्रबंधन के लिए आवश्यक संसाधन मुहैया कराती है।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.