देश में इन जगहों के बीच बनेगा देश का पहला एलिवेटेड हाइवे, वाहन चालकों को मिलेगी ये खास सुविधाएं

By Vikash Beniwal

Published on:

भारतमाला प्रोजेक्ट देश में सड़क यातायात को बेहतर बनाने के लिए सरकार द्वारा शुरू किया गया एक महत्वपूर्ण कदम है। इसके तहत कई एक्सप्रेसवे और हाईवे बनाए जा रहे हैं जो लोगों की यात्रा को सुगम और सुविधाजनक बना रहे हैं। इसमें सबसे बड़ा प्रोजेक्ट दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे है जो दिल्ली और मुंबई के बीच यातायात को तेज और आसान बनाएगा।

सबसे छोटा लेकिन महत्वपूर्ण

द्वारका एक्सप्रेसवे भारत का सबसे छोटा एक्सप्रेसवे है जिसकी लंबाई मात्र 29 किलोमीटर है। हालांकि इसकी खासियत यह है कि यह देश का पहला 8 लेन एक्सेस कंट्रोल एलिवेटेड एक्सप्रेसवे है। यह एक्सप्रेसवे दिल्ली और हरियाणा के बीच बनाया जा रहा है,जिससे एनसीआर (नेशनल कैपिटल रीजन) में रहने वाले लाखों लोगों को बड़ी राहत मिलेगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया उद्घाटन

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11 मार्च को द्वारका एक्सप्रेसवे के हरियाणा सेक्शन का उद्घाटन किया। यह एक्सप्रेसवे अगस्त 2024 तक ऑपरेशनल हो जाएगा। इससे एनसीआर में बढ़ते यातायात का दबाव कम होगा और नेशनल हाईवे-48 पर दिल्ली और गुरुग्राम के बीच वाहनों की भीड़ में कमी आएगी।

द्वारका एक्सप्रेसवे का रूट

यह एक्सप्रेसवे दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट के पास शिव मूर्ति से शुरू होकर खेड़की दौला टोल प्लाजा तक जाएगा। इसमें 18.9 किलोमीटर का हिस्सा हरियाणा में और 10.1 किलोमीटर का हिस्सा दिल्ली में आता है। यह एक्सप्रेसवे एनएच-8 पर शिव मूर्ति से शुरू होता है और खेड़की दौला टोल प्लाजा के पास जाकर खत्म होता है।

द्वारका एक्सप्रेसवे की विशेषताएँ

द्वारका एक्सप्रेसवे की कुल लंबाई 29 किलोमीटर है। इसमें 9 किलोमीटर लंबा और 34 मीटर चौड़ा एलिवेटेड रोड है। इसका निर्माण लगभग 9 हजार करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से किया जा रहा है। आईजीआई एयरपोर्ट के पास एक्सप्रेसवे के दिल्ली सेक्शन में 9 लेन और 3.6 किलोमीटर लंबी उथली सुरंग है जिसका एक हिस्सा विस्फोट-रोधी है। यह एक्सप्रेसवे भारी यातायात प्रति दिन लगभग 40 हजार कारों को सफर करा सकता है।

एनसीआर के निवासियों के लिए वरदान

द्वारका एक्सप्रेसवे के बनने से एनसीआर में रहने वाले लाखों लोगों को बड़ी राहत मिलेगी। यह एक्सप्रेसवे दिल्ली और गुरुग्राम के बीच यातायात को सुगम बनाएगा और समय की बचत करेगा। इसके अलावा यह हाईवे के जाम को कम करने में भी मदद करेगा जिससे लोगों का सफर अधिक आरामदायक होगा।

सुरक्षा और सुविधा का विशेष ध्यान

द्वारका एक्सप्रेसवे को आधुनिक तकनीक और उच्च सुरक्षा मानकों के साथ डिजाइन किया गया है। इसमें यातायात की निगरानी के लिए अत्याधुनिक कैमरे और सेंसर लगाए गए हैं। इसके अलावा एक्सप्रेसवे पर आरामदायक यात्रा के लिए विभिन्न सुविधाएं भी प्रदान की गई हैं जैसे कि विश्राम स्थल, आपातकालीन सेवाएं और बेहतर सड़क संकेतक।

पर्यावरण के प्रति सजगता

द्वारका एक्सप्रेसवे के निर्माण में पर्यावरण के संरक्षण का भी ध्यान रखा गया है। इसके निर्माण के दौरान वृक्षारोपण, जल संरक्षण और धूल नियंत्रण के उपाय किए गए हैं। यह एक्सप्रेसवे ना केवल यात्रियों को सुविधा देगा बल्कि पर्यावरण की सुरक्षा में भी योगदान देगा।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.