home page

15000 महिलाओं को मोदी सरकार को तरफ से मिलेगा ड्रोन, महिला सशक्तिकरण को मिलेगा बढ़ावा

भारत सरकार लगातार महिलाओं को सशक्त और आत्मनिर्भर बनाने के नए-नए उपायों पर काम कर रही है। इसी दिशा में मोदी सरकार ने 'नमो ड्रोन दीदी योजना' की शुरुआत की है। 
 | 
namo-drone-didi-yojana-15000-women

भारत सरकार लगातार महिलाओं को सशक्त और आत्मनिर्भर बनाने के नए-नए उपायों पर काम कर रही है। इसी दिशा में मोदी सरकार ने 'नमो ड्रोन दीदी योजना' की शुरुआत की है, जो महिलाओं को खेती में उन्नत तकनीकी का उपयोग सिखाने और उन्हें आर्थिक रूप से सशक्त बनाने का एक अनोखा प्रयास है। इस योजना के अंतर्गत महिलाएं ड्रोन उड़ाने, डेटा विश्लेषण और ड्रोन के रखरखाव की ट्रेनिंग प्राप्त करेंगी।

महिलाओं की आर्थिक स्थिति में सुधार

नमो ड्रोन दीदी योजना से महिलाएं न केवल आत्मनिर्भर बनेंगी, बल्कि उनकी आर्थिक स्थिति में भी महत्वपूर्ण सुधार होगा। इस योजना के तहत ड्रोन द्वारा खेतों में पेस्टीसाइड और नैनो यूरिया का छिड़काव करने से खेती की लागत में कमी आएगी और महिलाओं की आमदनी में बढ़ोतरी होगी।

आमदनी में बढ़ोतरी के आयाम

सरकार ने अब तक 1100 महिलाओं को ड्रोन उपलब्ध कराए हैं। एक ड्रोन 15 मिनट में एक एकड़ जमीन पर पेस्टीसाइड या नैनो यूरिया का छिड़काव कर सकता है। यह प्रक्रिया न केवल समय और लागत की बचत करती है, बल्कि महिलाओं को प्रति दिन 5000 रुपये तक की आमदनी प्राप्त करने का अवसर भी प्रदान करती है।

योजना का विस्तार और भविष्य की संभावनाएं

सरकार ने आगामी वर्ष में 15,000 और महिलाओं को ड्रोन देने की योजना बनाई है। इस पहल से महिलाओं की ट्रेनिंग पर एक बड़ी रकम खर्च हो रही है, जिससे न केवल उनके सशक्तिकरण में बल्कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था में भी सकारात्मक परिवर्तन आएगा।


कृषि क्षेत्र में आने वाले बदलाव

नमो ड्रोन दीदी योजना से कृषि क्षेत्र में महत्वपूर्ण बदलाव आने की उम्मीद है। ड्रोन का उपयोग करने से खेती में लागत कम होगी, प्रोडक्शन बढ़ेगा और पर्यावरण पर भी कम प्रभाव पड़ेगा। इससे न केवल महिलाएं बल्कि समग्र रूप से भारतीय कृषि व्यवस्था भी लाभान्वित होगी।