जाने आपका AC कितने डिग्री तक का टेम्परेचर झेल सकता है, भयंकर गर्मी में इस्तेमाल करने का सोच रहे है तो जान लो सच्चाई

By Vikash Beniwal

Published on:

भारत भर में जारी तीव्र गर्मी के बीच एयर कंडीशनर (AC) लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण सहायक बन गया है। इस समय जब तापमान 50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है एसी का महत्व और भी बढ़ जाता है।

एयर कंडीशनर का काम

एयर कंडीशनर का मुख्य काम है गर्म हवा को बाहर निकालना और कमरे को ठंडा करना। इसमें गैस का उपयोग करके हवा को ठंडा किया जाता है जो गर्मी को सोख लेती है और फिर इसे बाहर फेंक देती है। AC की क्षमता ब्रिटिश थर्मल यूनिट (BTU) में मापी जाती है और एक सामान्य 1.5 टन का AC लगभग 18,000 BTU का होता है।

गर्मी में AC की चुनौतियाँ

बढ़ते तापमान के साथ AC के लिए भी चुनौतियाँ बढ़ जाती हैं। जब बाहर का तापमान AC की क्षमता से अधिक हो जाता है तो AC को अधिक मेहनत करनी पड़ती है जिससे इसकी दक्षता और जीवनकाल पर असर पड़ सकता है।

पुरानी ACऔर नई AC

पुराने AC मॉडल, जो अधिक भारी कंप्रेसर का उपयोग करते थे, वे अधिक कूलिंग क्षमता देती थी लेकिन कम बिजली की खपत कम थी। नए मॉडल जो ऊर्जा की बचत पर जोर देते हैं अक्सर उच्च गर्मी में कम प्रभावी होते हैं क्योंकि वे कम ऊर्जा का उपयोग करते हैं।

उच्च तापमान में AC का प्रदर्शन

वर्तमान में बाजार में उपलब्ध AC 55 डिग्री सेल्सियस तक के तापमान को सहन करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। हालांकि, 50 डिग्री की गर्मी में भी ये AC अधिकतम क्षमता से कम परफॉर्म करते हैं और उच्च बिजली की खपत के साथ समझौता करना पड़ सकता है।

AC चलाने के टिप्स

तापमान सेटिंग: AC का तापमान हमेशा 24 डिग्री से कम न रखें।
पंखा का उपयोग: पंखे का उपयोग करें ताकि ठंडी हवा अधिक क्षेत्र में फैल सके।
नियमित सर्विस : AC की नियमित सेवा और रखरखाव से इसकी क्षमता बनी रहती है और बिजली की खपत कम होती है।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.