home page

UP के इन 8 जिलों में रिंग रोड बनाने की तैयारी में योगी सरकार, जाने जिलों के नाम

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के आठ मंडल मुख्यालयों में रिंग रोड (Ring Road) के निर्माण की योजना बनाई है।
 | 
UP government sent proposal to the Center

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के आठ मंडल मुख्यालयों में रिंग रोड (Ring Road) के निर्माण की योजना बनाई है। इस पहल का उद्देश्य यातायात की सुगमता (Traffic Congestion) और सुरक्षा को बढ़ाना है। आइए इस नई पहल पर एक नजर डालते हैं।

रिंग रोड की योजना और उसके महत्व

प्रयागराज, बरेली समेत आठ मंडल मुख्यालयों को रिंग रोड से जोड़ने की योजना (Ring Road Project) पर काम शुरू हो गया है। इस प्रस्ताव को केंद्र सरकार के पास भेजा जा चुका है. जिसमें रिंग रोड की लंबाई, डिजाइन आदि को विस्तार से बताया गया है। इस पहल से न केवल यातायात की समस्या का समाधान होगा, बल्कि आवागमन सुरक्षित और सुगम भी होगा।

सीएम योगी की पहल

लखनऊ में इंडियन रोड कांग्रेस (Indian Road Congress) के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने केंद्रीय मंत्री नीतिन गडकरी से मंडल मुख्यालयों में रिंग रोड और बाईपास के निर्माण की आवश्यकता पर चर्चा की थी। केंद्रीय मंत्री ने इस प्रस्ताव पर सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है।

पीडब्ल्यूडी मंत्री जितिन प्रसाद का विजन

पीडब्ल्यूडी मंत्री जितिन प्रसाद (PWD Minister Jitin Prasad) के अनुसार प्रदेश के सभी मंडल मुख्यालयों में रिंग रोड का निर्माण सुनिश्चित किया जाएगा। इससे पहले से मौजूद बाईपास को भी इस योजना में शामिल करने की योजना है, जिससे यातायात प्रबंधन में सुधार होगा।

लक्षित मंडल मुख्यालयों की सूची

सहारनपुर, मुरादाबाद, बरेली, अलीगढ़, आजमगढ़, प्रयागराज, मिर्जापुर और झांसी (Targeted Divisional Headquarters) वे मंडल मुख्यालय हैं, जिनके लिए रिंग रोड निर्माण का प्रस्ताव भेजा गया है। इन सभी जिलों में रिंग रोड का निर्माण न केवल यातायात को सुव्यवस्थित करेगा, बल्कि आर्थिक विकास में भी योगदान देगा।