home page

UP New City: यूपी में इस जगह नया शहर बनाने के लिए 60 गांवो की जमीनों का होगा अधिग्रहण, बनाया जाएगा ये नया शहर

UP New City: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक नई सुबह की शुरुआत हो चुकी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के साहसिक निर्देश पर जिला प्रशासन ने उप नगरीय संस्कृति (Urban Culture) के विकास की ओर एक महत्वपूर्ण कदम बढ़ाया है।
 | 
up-new-city-land-of-these-60-villages

UP New City: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक नई सुबह की शुरुआत हो चुकी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के साहसिक निर्देश पर जिला प्रशासन ने उप नगरीय संस्कृति (Urban Culture) के विकास की ओर एक महत्वपूर्ण कदम बढ़ाया है। इस दिशा में 'नया गोरखपुर' (New Gorakhpur) परियोजना ने जमीनी स्तर पर आकार लेना शुरू कर दिया है।

नया गोरखपुर है सपने की उड़ान

गोरखपुर विकास प्राधिकरण (GDA) ने शासन को इस परियोजना का प्रस्ताव पहले ही सौंप दिया है। इस परियोजना के तहत शहर से सटे दो क्षेत्रों के लगभग 60 गांवों (Villages) में फैली लगभग छह हजार एकड़ भूमि (Land) पर 'नया गोरखपुर' बसाने की योजना है। यह न केवल शहर के विस्तार को नया आयाम देगा बल्कि आधुनिक सुविधाओं (Modern Facilities) से लैस एक समृद्ध शहर का सपना साकार करेगा।

भूमि अधिग्रहण है एक चुनौतीपूर्ण रास्ता

जमीन अधिग्रहण (Land Acquisition) की प्रक्रिया जिला प्रशासन के निर्देशन में शुरू हो चुकी है। बरगदवा रोड और गोरखपुर-टिकरिया-महराजगंज मा पर स्थित लगभग 25 गांवों को इस परियोजना के लिए चिह्नित किया गया है। इसके अलावा पिपराइच और कुसम्ही क्षेत्र के लगभग 35 गांव भी इसमें शामिल होंगे।

आधुनिक सुविधाओं से युक्त नया गोरखपुर

गोरखपुर विकास प्राधिकरण के अनुसार नया गोरखपुर आधुनिक सुविधाओं से लैस होगा। इसमें व्यापारिक केंद्रों (Commercial Centers), आवासीय कॉलोनियों (Residential Colonies), शिक्षा संस्थानों (Educational Institutes), और हरित क्षेत्रों (Green Areas) का समावेश होगा। इससे न केवल शहर का आर्थिक (Economic Development) विकास सुनिश्चित होगा बल्कि यह एक स्वस्थ और सुखद Lifestyle को भी प्रोत्साहित करेगा।

प्रदेश सरकार के आगामी बजट (Budget) में नया गोरखपुर की मंजूरी की घोषणा की उम्मीद है। डीएम कृष्णा करुणेश के अनुसार इस परियोजना के लिए 50 से अधिक गांवों में सर्वे किया जाएगा। किसानों से संवाद स्थापित कर भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया को संवेदनशीलता के साथ पूरा किया जाएगा।