home page

UP Fourlane Highway: यूपी में यहां 261 करोड़ के बजट से रिंग रोड तक बनेगा फोरलेन एलिवेटेड रोड, इस जिले के लोगों की हो जाएगी मौज

सारनाथ में पर्यटन को बढ़ावा देने और बौद्ध सर्किट को जोड़ने के लिए रिंग रोड से जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान तक फोरलेन एलिवेटेड रोड बनाने की योजना है
 | 
up-news-fourlane-elevated

सारनाथ में पर्यटन को बढ़ावा देने और बौद्ध सर्किट को जोड़ने के लिए रिंग रोड से जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान तक फोरलेन एलिवेटेड रोड बनाने की योजना है। रास्ते में ताल होने की वजह से एलिवेटेड रोड बनाया जा रहा है। सड़क बनाने में मिट्टी डालने की लागत अधिक होगी।

फोरलेन एलिवेटेड रोड में रेलवे ओवर ब्रिज भी शामिल है, जिससे आवागमन बाधित नहीं हो। मंडलायुक्त कौशल राज शर्मा ने राजकीय सेतु निगम से सर्वे कर प्रस्ताव बनाने को कहा था।

लोक निर्माण (पीडब्ल्यूडी) और राष्ट्रीय राजमार्ग परिवहन प्राधिकरण (एनएचएआइ) ने इसमें सहयोग किया। 300 करोड़ रुपये की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार हो चुकी है।

261 करोड़ रुपये का प्रस्ताव सरकार को भेजा गया

रोड की लंबाई 1400 मीटर है। पहले सरकार को 261 करोड़ रुपये का प्रस्ताव भेजा गया था। सारनाथ, भगवान बुद्ध की प्रथम उपदेश स्थली में, हर दिन हजारों विदेशी आते हैं।

यहां तिब्बत, जापान, कंबोडिया, कोरिया, वियतनाम, जापान और चीन के कई मंदिर भी हैं। पहले संग्रहालय से मुनारी मार्ग और फिर सिंहपुर गांव से फोरलेन सड़क बनाने की योजना थी, लेकिन बाद में इसे सारनाथ रेलवे स्टेशन से बदला गया।

सारनाथ से रिंग रोड तक फोरलेन सड़क बनाने की योजना पूर्व मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल ने बनाई थी, लेकिन फाइल आगे नहीं बढ़ सकी।

यह फायदा होगा

पर्यटक एयरपोर्ट से सीधे सारनाथ जाते हैं। दर्शन-पूजन करने के बाद लोग चंदौली होते हुए बोध गया, कुशीनगर और लुंबिनी चले जाते हैं।

रिंग रोड से सारनाथ तक पर्यटक आसानी से पहुंच जाएंगे। पर्यटक वहां से गोरखपुर के माध्यम से नेपाल भी जा सकते हैं।

इस तरह सड़क बनेगी

एलिवेटेड रोड जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान से शुरू होकर वाटर ट्रीटमेंट प्लांट, रेलवे क्रासिंग को पार करते हुए रिंग रोड तक जाएगा।

रेलवे पुल के उस पार निरंतर जलभराव होता रहता है। रिंग रोड से जमीन के लेबल नीचे होने के कारण सेतु निगम ने एलिवेटेड रोड बनाने का फैसला किया है। 1400 मीटर लंबी एलिवेटेड रोड में लगभग 900 मीटर जमीन जल खाता (तालाब) की है और लगभग पांच मीटर जमीन किसान की है।

तालाब को सुंदर बनाया जाएगा

मंडलायुक्त ने जल खाता की जमीन होने पर पूरा अधिग्रहण करने का आदेश दिया गया है। उस जमीन पर बंधी बनाने के साथ हरियाली, पाथवे, फुव्वारे,आदि लगाए जाएंगे।

ताकि इसे पर्यटक स्थल बनाया जा सके। वहां रंग-बिरंगी लाइटें भी होंगी। इससे बजट 261 करोड़ से 300 करोड़ हो गया है।