home page

UP की जनता अब महंगी बिजली के लिए हो जाए तैयार, प्रति यूनिट बिजली की कीमतों में हुआ इतना इजाफा

प्रदेश की बिजली कंपनियों द्वारा बीती रात विद्युत नियामक आयोग (Electricity Regulatory Commission) में फ़्यूल सरचार्ज (Fuel Surcharge) का प्रस्ताव दाखिल किया गया है।
 | 
electercity price hiked in up

प्रदेश की बिजली कंपनियों द्वारा बीती रात विद्युत नियामक आयोग (Electricity Regulatory Commission) में फ़्यूल सरचार्ज (Fuel Surcharge) का प्रस्ताव दाखिल किया गया है। यह प्रस्ताव जनवरी से मार्च 2023 के चौथे क्वार्टर के लिए 61 पैसे प्रति यूनिट के आधार पर दाखिल किया गया है। इस प्रस्ताव के अनुमोदन से अलग-अलग श्रेणीवार बिजली की दरों में 28 पैसे से लेकर 1.09 रुपये प्रति यूनिट तक की बढ़ोतरी हो सकती है।

उपभोक्ता परिषद का विरोध

उपभोक्ता परिषद (Consumer Council) ने इस प्रस्ताव के विरोध में लोक महत्व प्रस्ताव आयोग में दाखिल किया है। नियामक आयोग द्वारा पूर्व में बिजली दरों में बढ़ोतरी के प्रस्तावों को मंजूरी न दिए जाने की स्थिति में अब ईंधन अधिभार के नाम पर बढ़ोतरी का प्रस्तावित होना, उपभोक्ताओं के लिए चिंता का कारण बना हुआ है।

प्रस्ताव की असंवैधानिकता पर उठे सवाल

उपभोक्ता परिषद के अध्यक्ष अवधेश कुमार वर्मा ने पावर कारपोरेशन द्वारा दाखिल किए गए प्रस्ताव को असंवैधानिक (Unconstitutional) बताया है। उनके अनुसार नियामक आयोग ने जून 2020 में एक कानून बनाया था, जिसके विपरीत यह प्रस्ताव प्रदेश के विद्युत उपभोक्ताओं के हितों के विरुद्ध है।

उपभोक्ताओं पर अतिरिक्त भार

उपभोक्ता परिषद के अध्यक्ष के अनुसार यदि कानून के तहत प्रस्ताव दाखिल किया जाता तो प्रदेश के विद्युत उपभोक्ताओं को 30 पैसा प्रति यूनिट के आधार पर लाभ मिलता। हालांकि बिजली कंपनियों ने उपभोक्ताओं पर अतिरिक्त भार डालने का प्रयास किया है।

केटेगरी के हिसाब से फ़्यूल सरचार्ज

  1. घरेलू बीपीएल: 28 पैसे प्रति यूनिट
  2. घरेलू सामान्य: 44 से 56 पैसे प्रति यूनिट
  3. कामर्शियल: 49 से 87 पैसे प्रति यूनिट
  4. किसान: 19 से 52 पैसे प्रति यूनिट
  5. नान इंडस्ट्रील बल्कलोड: 76 पैसे से 1.09 रुपये प्रति यूनिट
  6. भारी उद्योग: 54 से 64 पैसे प्रति यूनिट