home page

यूपी में बिजली उपभोक्ता जल्दी से करवा ले ये जरुरी काम वरना लगेगा डबल चार्ज, बिजली विभाग की तरफ से हो सकती है कार्रवाई

गोरखपुर के बिजली उपभोक्ताओं के बीच एक ऐसी चुनौती सामने आई है, जिसने बिजली निगम (Electricity Corporation) की चिंताएं बढ़ा दी हैं।
 | 
_Electricity Sanctioned Load

गोरखपुर के बिजली उपभोक्ताओं के बीच एक ऐसी चुनौती सामने आई है, जिसने बिजली निगम (Electricity Corporation) की चिंताएं बढ़ा दी हैं। यहां के 16 हजार से अधिक उपभोक्ता ऐसे हैं, जो अपने स्वीकृत लोड (Approved Load) से अधिक की बिजली का इस्तेमाल कर रहे हैं। इससे न केवल बिजली सप्लाई में व्यवधान (Disruption) आ रहा है बल्कि अन्य उपभोक्ताओं को भी इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है।

बिजली निगम की कार्रवाई

बिजली निगम ने इस समस्या का समाधान करने के लिए कदम उठाए हैं। ऐसे उपभोक्ताओं को नोटिस (Notice) दिया जा रहा है ताकि वे अपना लोड बढ़वा लें। यदि उपभोक्ता इस नोटिस का पालन नहीं करते हैं तो उनसे डबल शुल्क (Double Charge) वसूला जाएगा। यह कदम निगम की ओर से उठाया गया है ताकि बिजली की खपत (Consumption) को संतुलित किया जा सके और अन्य उपभोक्ताओं को हो रही असुविधा को कम किया जा सके।

गर्मी के मौसम में बढ़ती बिजली की खपत

गर्मी का मौसम (Summer Season) आते ही एयर कंडीशनर (AC), कूलर, फ्रिज जैसे उपकरणों की खपत में इजाफा हो जाता है। इससे उपभोक्ताओं का स्वीकृत लोड से अधिक बिजली की खपत होने लगती है, जिसके परिणामस्वरूप लो-वोल्टेज (Low Voltage) और ट्रिपिंग (Tripping) जैसी समस्याएं उत्पन्न होती हैं। बिजली निगम द्वारा इस समस्या को दूर करने के लिए लोड की जांच (Load Checking) शुरू की गई है।

निगम का अतिरिक्त लोड का पता लगाना और समाधान

निगम ने चेकिंग के दौरान पाया कि 16 हजार से अधिक उपभोक्ताओं का लोड स्वीकृत भार से अधिक था। इस अतिरिक्त लोड (Additional Load) के कारण निगम को लाखों रुपये का नुकसान (Loss) हुआ है। इस समस्या का समाधान करने के लिए उपभोक्ताओं का लोड बढ़ाने के साथ-साथ ट्रांसफार्मरों की क्षमता वृद्धि (Capacity Enhancement) पर भी काम किया जा रहा है।

चीफ इंजीनियर की अपील और उपभोक्ताओं की जिम्मेदारी

गोरखपुर जोन के चीफ इंजीनियर आशु कालिया ने उपभोक्ताओं से अपील (Appeal) की है कि वे अपने लोड को स्वीकृत सीमा में रखें और यदि अधिक लोड है तो उसे बढ़वा लें। उन्होंने यह भी चेतावनी दी है कि जांच में पकड़े जाने पर अतिरिक्त शुल्क के साथ पेनाल्टी (Penalty) भी लगाई जाएगी। इस अभियान का मुख्य उद्देश्य बिजली सप्लाई में सुधार (Improvement) लाना और उपभोक्ताओं को अनावश्यक परेशानी से बचाना है।