home page

हरियाणा में खुदाई करते वक्त निकली हजारो साल पुरानी कीमती चीजें, इतिहास से जुड़ी इस चीज को देख हर कोई हैरान

हरियाणा का भिवानी जिला अपने गांव तिगड़ाना खेड़ा में हो रही खुदाई (Excavation) के कारण लगातार चर्चा में है।
 | 
5 thousand years old secrets

हरियाणा का भिवानी जिला अपने गांव तिगड़ाना खेड़ा में हो रही खुदाई (Excavation) के कारण लगातार चर्चा में है। यहां पांच हजार साल पुरानी सिंधु सरस्वती सभ्यता (Indus-Sarasvati Civilization) के अवशेष मिले हैं, जो इतिहास के नए अध्यायों को खोल रहे हैं। खुदाई में स्टेटाइट के 1600 मनके (Beads) का मिलना इस बात का प्रमाण है कि यहां की सभ्यता व्यापार और कला में काफी विकसित थी।

खुदाई का इतिहास और महत्व

2016 से शुरू हुई इस खुदाई ने अब तक कई महत्वपूर्ण खोजों को सामने लाया है। पुरातत्वविद (Archaeologists) डा. नरेंद्र परमार के नेतृत्व में चल रहे इस खुदाई कार्य ने तिगड़ाना खेड़ा को एक विशेष महत्व दिया है। स्टेटाइट के मनकों के अलावा, फियांस की भट्ठी (Furnace) का मिलना और शोडा लाइट अजमेर के प्रमाण इसे एक अहम अर्कियोलॉजिकल साइट (Archaeological Site) बनाते हैं।

सभ्यता का विकास और व्यापार

खुदाई में मिले एक घर और स्टेटाइट के मनके यह संकेत देते हैं कि उस समय तिगड़ाना खेड़ा में सभ्यता काफी विकसित थी। स्टेटाइट जो अरावली पर्वत श्रृंखला (Aravalli Range) से लाया जाता था, उसका देशभर में व्यापार होता था, जो उस समय के व्यापारिक नेटवर्क्स (Trade Networks) की विस्तृतता को दर्शाता है।

हरियाणा का गौरव है तिगड़ाना खेड़ा

राजस्थान विद्यापीठ उदयपुर के डॉ. जीवन खरकवाल के अनुसार तिगड़ाना खेड़ा की साइट हरियाणा (Haryana) प्रदेश का नाम रोशन करने वाली है। जब दूसरी जगहों पर हड़प्पाकालीन सभ्यता (Harappan Civilization) का अंत हो रहा था, तब यहां इसका फैलाव हो रहा था। कालीबंगा साइट (Kalibangan Site) के प्रमाणों के साथ मछली पालन और अनाज के साक्ष्य भी इस साइट की विशेषता बताते हैं।