home page

सरकार ने नियमों में किया बदलाव अब दिव्यांग बनेंगे HCS अफसर, हिंदी और इंग्लिश में हुए इतने प्रतिशत तो मेरिट में आएंगे

हरियाणा सरकार द्वारा हरियाणा सिविल सर्विस अफसर बनने वालों की राह को आसान कर दिया गया है. सरकार द्वारा दिव्यांग कोटे के खाली पड़े पदों को भरने के लिए नियमों में बदलाव किया गया है.
 | 
haryana cm manohar lal hcs recruitment

हरियाणा सरकार द्वारा हरियाणा सिविल सर्विस अफसर बनने वालों की राह को आसान कर दिया गया है. सरकार द्वारा दिव्यांग कोटे के खाली पड़े पदों को भरने के लिए नियमों में बदलाव किया गया है. इन नए नियमों के लागू होने के बाद जो दिव्यांग हिंदी- अंग्रेजी में 35 अंक भी लेते हैं

तो उन्हें भी मेरिट लिस्ट में शामिल किया जाएगा. बता दे कि अब से पहले दिव्यांगों को HCS की हिंदी और अंग्रेजी भाषा परीक्षा में न्यूनतम 45% अंक लेने अनिवार्य थे. इस बारे में मुख्य संजीव संजीव कौशल ने आदेश जारी कर दिए हैं.

35% अंक लेने वाले भी होंगे मेरिट में शामिल 

जारी आदेशों के अनुसार अगर HCS भर्ती में दिव्यांग कोटे के पद खाली रहते हैं तो हरियाणा स्टाफ सिलेक्शन कमिशन हिंदी और अंग्रेजी की परीक्षा में 35% अंक लेने वालों को भी मेरिट लिस्ट में शामिल कर सकता है. अब जो दिव्यांग कोट के पद खाली पड़े हैं उन्हें भी आसानी से भरा जा सकेगा.

मुख्यमंत्री दे चुके हैं निर्देश

उम्मीद है कि हरियाणा के 35000 दिव्यांगों को जल्दी ही रोजगार मिलेगा, जिनमें से 15000 सरकारी जबकि 20000 दिव्यांग निजी क्षेत्र में समायोजित किए जाएंगे. मुख्यमंत्री द्वारा सरकारी नौकरियों में 1 नवंबर 1996 से आज तक का सारा बैकलॉग भरने के निर्देश दिए जा चुके हैं. HCS भर्ती में 14 वैकेंसी का बैकलॉग भरा जाएगा.