home page

हरियाणा में किसानों से जुड़ी इस योजना में भारी धांधली आई सामने, कृषि मंत्री ने दिए सख्त आदेश

कृषि मंत्री जय प्रकाश दलाल ने हाल ही में भावांतर भरपाई योजना (बीबीवाई) के कार्यान्वयन में आई खामियों को लेकर चिंता व्यक्त की है।
 | 
Agriculture Minister Jaiprakash Dalal

कृषि मंत्री जय प्रकाश दलाल ने हाल ही में भावांतर भरपाई योजना (बीबीवाई) के कार्यान्वयन में आई खामियों को लेकर चिंता व्यक्त की है। इस योजना का मकसद बाजरा उत्पादक किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य प्रदान करना है, लेकिन अनियमितताओं की खबरों ने इसके प्रभाव को कमजोर कर दिया है। दलाल ने अधिकारियों पर कार्रवाई करने का आदेश दिया है, जिन्होंने इस योजना के कार्यान्वयन में लापरवाही बरती है।

अधिकारियों पर गिरेगी गाज

योजना के तहत धन के दुरुपयोग और लाभार्थियों के चयन में गलतियों को गंभीरता से लेते हुए मंत्री ने कहा कि वेरिफ़िकेशन प्रक्रिया में उचित निगरानी नहीं की गई है। 'मेरी फसल मेरा ब्यौरा' (एमएफएमबी) पोर्टल पर उपलब्ध डेटा के अनुसार अपात्र व्यक्तियों का चयन हो रहा था, जो योजना के मूल उद्देश्य को ही धूमिल कर रहा था।

भिवानी में उजागर हुआ घोटाला

12 जनवरी को भिवानी में बीबीवाई के तहत किसानों को लाभ प्रदान करने पर रोक लगाई गई थी। कुछ CSC सेंटर के मालिकों और प्रौद्योगिकी-प्रेमी व्यक्तियों पर धोखाधड़ी का आरोप लगा। इस घोटाले में लाखों रुपये की अनुचित प्राप्ति के लिए भिवानी में विभिन्न पुलिस स्टेशनों में 10 एफआईआर दर्ज की गई थीं। इस घटना ने योजना के प्रबंधन में गंभीर खामियों को उजागर किया है और इसकी जांच अभी भी जारी है।

हिसार में अयोग्य किसानों का पता चला

हिसार जिले में जिला प्रशासन ने 2,300 अयोग्य किसानों का पता लगाया, जिन्होंने एमएफएमबी पोर्टल पर खुद को बाजरा उगाने वाले किसानों के रूप में पंजीकृत कराया था। इन अयोग्य किसानों ने योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के प्रयास में हजारों एकड़ जमीन पर दावा किया था। हिसार प्रशासन ने इन किसानों को मिलने वाले लाभ को रोक दिया है, जिससे योजना के प्रति आम जनता का विश्वास बहाल हो सके।