home page

हरियाणा का पहला स्कूल जिसमें बिन किताबों के होगी बच्चों की पढ़ाई, ना बैग लाने की जरुरत और ना ही करना होगा कोई होमवर्क

आज के समय में जहां शिक्षा का बोझ दिन-प्रतिदिन बच्चों के कंधों पर बढ़ता जा रहा है वहीं हरियाणा के रेवाडी में एक नई पहल की गई है जो न केवल बच्चों को इस बोझ से मुक्ति दिलाएगी बल्कि उन्हें एक नया और आनंदित शिक्षा का अनुभव प्रदान करेगी।
 | 
unique-school

आज के समय में जहां शिक्षा का बोझ दिन-प्रतिदिन बच्चों के कंधों पर बढ़ता जा रहा है वहीं हरियाणा के रेवाडी में एक नई पहल की गई है जो न केवल बच्चों को इस बोझ से मुक्ति दिलाएगी बल्कि उन्हें एक नया और मस्ती शिक्षा का अनुभव प्रदान करेगी। इस अद्वितीय पहल को नाम दिया गया है "Unique School"।

तनाव मुक्त होगी पढ़ाई

Unique School की खासियत यह है कि यहां पर बच्चों को कोई होमवर्क नहीं दिया जाएगा और न ही उन्हें भारी बैग या किताबें लाने की आवश्यकता होगी। स्कूल में पढ़ाई डिजिटल तकनीक और खेल-खेल में की जाएगी जिससे बच्चे बिना किसी तनाव के अध्ययन कर सकेंगे।

स्कूल की जगह 

रेवाड़ी-नारनौल रोड कानुका मोड़ पर स्थित जेआरएम इंटरनेशनल स्कूल (JRM International School Rewari) इस क्षेत्र में पहली बार Bagless No Homework का कांसेप्ट लेकर आया है। इस स्कूल में बच्चों की पढ़ाई खाने-पीने और खेलने के सभी पहलुओं को ध्यान में रखा गया है।

जेआरएम ग्रुप का योगदान

बताया गया है कि JRM Group पिछले 30 वर्षों से शिक्षा क्षेत्र में सक्रिय रहा है। 3 मार्च को ही रेवाड़ी में JRM International School का शुभारंभ हुआ, जहां उन्होंने देखा कि बच्चों को Bagless और No Homework की सख्त जरूरत है। इस जरूरत को पूरा करने के लिए ही इस स्कूल की स्थापना की गई।

प्राइवेट स्कूलों की चुनौतियां

प्राइवेट स्कूलों में बच्चों पर पढ़ाई का बोझ और भारी बैग का मुद्दा काफी समय से चिंता का विषय रहा है। अभिभावकों ने इसे लेकर कई बार शिकायतें भी की हैं। Unique School इसी समस्या का समाधान पेश करता है।

स्वास्थ्य पर बढ़ते बोझ का असर 

बच्चों पर पढ़ाई के बोझ के नकारात्मक प्रभाव साफ रूप से देखे जा सकते हैं। भारी बैग के कारण होने वाली स्लिप डिस्क स्पॉन्डिलाइटिस और अन्य समस्याएं बच्चों के स्वास्थ्य पर भारी पड़ रही हैं। Unique School इन समस्याओं को दूर करने के लिए एक अनोखा कदम है।