home page

Haryana Roadways: जींद से बल्लबगढ़ जाने वाले यात्रियों को बस बदलने का झंझट हुआ खत्म, रोडवेज विभाग ने इस रूट पर चलाई दो स्पेशल बसें

Haryana Roadways: जींद और बल्लबगढ़ के बीच यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए हरियाणा रोडवेज डिपो जींद ने एक गुड न्यूज दी है।
 | 
two-roadways-buses-run-from-jind-to-ballabgarh

Haryana Roadways: जींद और बल्लबगढ़ के बीच यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए हरियाणा रोडवेज डिपो जींद ने एक गुड न्यूज दी है। यात्रा की सुविधा और समय की बचत को ध्यान में रखते हुए रोडवेज डिपो ने जींद से बल्लबगढ़ के लिए सीधी बस सेवा शुरू की है। इस नई पहल के साथ यात्रियों को अब अपने गंतव्य तक पहुँचने के लिए बसें बदलने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी, जिससे उनका कीमती समय बचेगा।

सुविधाजनक समय सारणी

जींद-बल्लबगढ़ के लिए पहली बस सुबह 5 बजकर 20 मिनट पर और दूसरी बस सुबह 6 बजकर 40 मिनट पर डिपो से रवाना होगी। इससे यात्रियों को अपने दिनचर्या के अनुसार बस का चुनाव करने में सुविधा होगी और समय का भी उचित प्रबंधन होगा।

यात्रियों की लंबे समय से मांग

यात्री बस डिपो प्रबंधन से लंबे समय से बल्लबगढ़ के लिए सीधी बस सेवा शुरू करने की मांग कर रहे थे। पहले इस रूट पर सीधी बस सेवा न होने के कारण यात्रियों को बसों को बदलना पड़ता था, जिससे उनका समय और ऊर्जा दोनों ही बर्बाद होते थे। इस सेवा की शुरुआत से यात्रियों को अब बेहतर परिवहन सुविधा मिलेगी।

बसों की कमी और पासिंग की समस्या

डिपो में पिछले साल नई बसें आने से पहले बसों की बहुत कमी थी, जिससे लंबे और छोटे दोनों रूट प्रभावित हो रहे थे। डिपो कंडम बसों के सहारे काम चला रहा था, जिससे नए रूटों पर बसों को चलाना मुश्किल हो रहा था। हालांकि अब रोडवेज डिपो के पास 200 से ज्यादा बसें हो गई हैं और बंद हुए रूट के साथ-साथ नए रूट पर भी बसें चलाई जा रही हैं।

पासिंग में आई बाधा और समाधान

मार्च के शुरुआत में डिपो में आई 11 नई बसों की पासिंग प्रक्रिया 15 दिनों से अटकी पड़ी थी। आरटीए जींद के तबादले के बाद नई बसों की पासिंग की जिम्मेदारी एसडीएम कार्यालय को सौंपी गई थी, लेकिन पासिंग नहीं हो पाई। सरकार ने इसके बाद कैथल के आरटीए को जींद का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा।

हालांकि सोमवार को आरटीए के ज्वाइन नहीं करने के कारण पासिंग की प्रक्रिया में और विलंब हुआ। इससे नई बसें रोडवेज वर्कशाप में 15 दिनों से खड़ी धूल फांक रही हैं। पासिंग होने के बाद ही इन बसों को रूट पर भेजा जा सकेगा।