home page

Haryana News: हरियाणा के इन जिलों के बिछाई जाएगी नई रेल पटरियां, इन लोगों को होगा सीधा फायदा

हरियाणा सरकार ने दो नई रेल परियोजनाओं को मंज़ूरी दे दी है। ये दोनों परियोजनाएं राज्य की अर्थव्यवस्था के लिए बहुत महत्वपूर्ण होने वाली हैं
 | 
Haryana News

हरियाणा सरकार ने दो नई रेल परियोजनाओं को मंज़ूरी दे दी है। ये दोनों परियोजनाएं राज्य की अर्थव्यवस्था के लिए बहुत महत्वपूर्ण होने वाली हैं। इससे साइबर सिटी गुड़गांव और राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली से हिसार के महाराजा अग्रेसन इंटरनैशनल एयरपोर्ट तक सीधी कनेक्टिविटी मिलेगी। दोनों परियोजनाओं को मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मंजूरी दे दी है।

अब इन परियोजनाओं के बारे में केंद्रीय रेल मंत्रालय के साथ भी चर्चा की जाएगी ताकि जल्द ही 50-50 प्रतिशत शेयर के हिसाब से इन्हें जल्द सिरे चढ़ावाया जा सके।

इस योजना के अनुसार, केंद्र सरकार रेल परियोजनाओं का 50 प्रतिशत खर्च करने को राजी हो जायेगी, तो राज्य सरकार बाकी खर्च करेगी।

नई दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनैशनल एयरपोर्ट और हिसार के इंदिरा गांधी इंटरनैशनल एयरपोर्ट के बीच रेल कनेक्टिविटी का प्रपोजल बहुत पहले से चल रहा है।

हिसार एयरपोर्ट में काम हो रहा है। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय की एक हालिया रिपोर्ट में देश भर में 20 ऐसे एयरपोर्टों के बारे में बताया गया है जो अगले छह महीनों में सेवा प्रदान कर सकेंगे।

इसमें अंबाला कैंट और हिसार एयरपोर्ट भी शामिल हैं। गृहमंत्री अनिल विज केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से भी अंबाला एयरपोर्ट की मंजूरी के लिए मिले है। केंद्र द्वारा मंजूरी मिलने के बाद अंबाला एयरपोर्ट को भी उड़ान योजना में शामिल किया गया है।

गढ़ी हरसरू, फर्रुखनगर और झज्जर में रेल संपर्क

सरकार ने इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट और महाराजा अग्रेसन इंटरनेशनल एयरपोर्ट को बिजवासन, गुड़गांव, गढ़ी हरसरू, सुलतानपुर, फर्रुखनगर और झज्जर से रेल कनेक्टिविटी प्रदान करने का फैसला लिया है।

सोमवार को डिप्टी सीएम दुष्यंत सिंह चौटाला ने बताया कि मुख्यमंत्री ने इन परियोजनाओं को मंजूरी दे दी है। पहले गढ़ी हरसरू, फर्रुखनगर और झज्जर के बीच रेल संपर्क बनाया जाएगा। बाद में महाराजा अग्रसेन अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, हिसार को जोड़ा जाएगा।

डबल लाइन में विकसित किया जाएगा

HRIDC प्रस्तावित परियोजना में गढ़ी हरसरू-फर्रुखनगर (11 किमी) और फर्रुखनगर-झज्जर (24 किमी) मिसिंग लाइन को डबल लाइन में बदल दिया जाएगा। इसमें 1225 करोड़ रुपये की लागत लगेगी।

झज्जर से रोहतक (37 किमी) मौजूदा सिंगल लाइन तथा रोहतक-डोभ भाली-हांसी (68 किमी) का कार्य उत्तर रेलवे द्वारा किया जा रहा है। दूसरे चरण में हांसी से महाराजा अग्रसेन एयरपोर्ट, हिसार तक 25 किमी की रेल लाइन बनाई जाएगी।