home page

Haryana News: हरियाणा के इस जिले में 800 मेगावाट के थर्मल पावर प्लांट की स्थापना को मिली मंजूरी, हरियाणा में बढ़ेगे रोजगार के अवसर

Haryana News: हरियाणा सरकार ने ऊर्जा क्षेत्र में एक नई और महत्वाकांक्षी पहल की शुरुआत की है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में हाई पावर वर्कर्स परचेज कमेटी
 | 
 Thermal power plant

Haryana News: हरियाणा सरकार ने ऊर्जा क्षेत्र में एक नई और महत्वाकांक्षी पहल की शुरुआत की है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में हाई पावर वर्कर्स परचेज कमेटी (HPGCL) की बैठक में यमुनानगर में दीनबंधु छोटू राम थर्मल पावर प्लांट के निर्माण के लिए एक बड़े कदम का ऐलान किया गया। इस प्लांट की क्षमता 800 मेगावाट (Megawatt) होगी, जिसके निर्माण का कार्य भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (BHEL) को 6900 करोड़ रुपये में सौंपा गया है।

तकनीकी प्रगति और पर्यावरण संरक्षण

नई पावर प्लांट में अल्ट्रा सुपर क्रिटिकल यूनिट (Ultra Super Critical Unit) लगाई जाएगी, जो मौजूदा सब-क्रिटिकल यूनिट्स की तुलना में आठ प्रतिशत अधिक क्षमतावान है। इससे न केवल कोयले की खपत में कमी आएगी, बल्कि बिजली की लागत (Cost of Electricity) भी कम होगी। यह विशेषता इस प्रोजेक्ट को पर्यावरण के अनुकूल और सस्ती ऊर्जा के निर्माण में एक महत्वपूर्ण कदम बनाती है।

स्वदेशीकरण की ओर एक कदम

बैठक में यह भी जानकारी दी गई कि नई 800 मेगावाट की यूनिट पूर्णरूपेण 'मेक इन इंडिया' (Make in India) की अवधारणा पर आधारित होगी, जिससे इस प्लांट को पूरी तरह से स्वदेशी (Indigenous) बनाया जा सकेगा। इस पहल से न केवल भारतीय उद्योगों को बढ़ावा मिलेगा, बल्कि यह हरियाणा को ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम भी है।

रोजगार सृजन और प्रदूषण नियंत्रण

नए प्लांट के निर्माण से न केवल बिजली का उत्पादन तेजी से होगा, बल्कि प्रदूषण में भी कमी आएगी। इसके अलावा यह परियोजना युवाओं के लिए रोजगार (Employment) के अवसर भी सृजित करेगी, जो हरियाणा के विकास में एक बड़ा योगदान देगी।

समन्वय समितियों का गठन

प्रदूषण नियंत्रण (Pollution Control) के लिए मुख्य सचिव संजीव कौशल ने प्रत्येक जिले में विभिन्न विभागों के अधिकारियों की समन्वय समितियों के गठन के निर्देश दिए। इस कदम से प्रभावी प्रदूषण नियंत्रण उपायों के लिए विभागों के बीच समन्वय और सहयोग मजबूत होगा।