home page

खट्टर सरकार ने हरियाणा में पशुओं के लिए शुरू की एंबुलेंस सुविधा, जारी किया ये टोल फ्री नम्बर

हरियाणा सरकार ने 2024-25 के वित्तीय वर्ष में पशु चिकित्सा सेवाओं को बढ़ावा देने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है।
 | 
govt-started-ambulance-facility-for-animals

हरियाणा सरकार ने 2024-25 के वित्तीय वर्ष में पशु चिकित्सा सेवाओं को बढ़ावा देने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। सरकार ने 8 नए सरकारी पशु चिकित्सालय (Veterinary Hospitals) और 18 सरकारी पशु औषधालय (Animal Dispensaries) खोलने का निर्णय लिया है। यह निर्णय उन जिलों में पशुधन आबादी के अनुपात में पशु चिकित्सा सेवाओं की कमी को दूर करने के लिए लिया गया है।

पशुपालकों के लिए राहत

कृषि एवं पशुपालन मंत्री जेपी दलाल (JP Dalal) ने 11.20 करोड़ रुपये की लागत से 70 मोबाइल पशुधन एम्बुलेंस (Mobile Livestock Ambulance) का शुभारंभ किया। इसके अलावा पशु चिकित्सालय कॉल सेंटर टोल फ्री नंबर 1962 (Toll-Free Number) का भी उद्घाटन किया गया, जो 24×7 चालू रहेगा। इससे पशुपालकों को अपने पशुओं के लिए आपातकालीन सेवाएं आसानी से उपलब्ध हो सकेंगी।

दुग्ध उत्पादन में हरियाणा का योगदान

हरियाणा देश के दुग्ध उत्पादन (Milk Production) में एक महत्वपूर्ण योगदान देता है। राज्य की पशुधन आबादी भले ही देश के कुल पशुधन आबादी का केवल 2.1 प्रतिशत हो, लेकिन दूध उत्पादन में इसकी हिस्सेदारी 5.19 प्रतिशत से अधिक है। इससे राज्य की दैनिक प्रति व्यक्ति दूध उपलब्धता (Per Capita Milk Availability) 1098 ग्राम है, जो राष्ट्रीय स्तर पर 459 ग्राम प्रति व्यक्ति प्रतिदिन से लगभग 2.4 गुना अधिक है।

मत्स्य पालन को मिलेगी गति

पशुपालन मंत्री ने बताया कि मत्स्य पालन (Fishery) क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए सरकार तीन मोबाइल जल परीक्षण प्रयोगशाला वैन (Mobile Water Testing Laboratory Vans) शुरू करेगी। इससे किसानों को मिट्टी और जल परीक्षण सुविधाएं सीधे उपलब्ध होंगी। इसके अलावा 4,000 एकड़ जमीन को मछली और झींगा पालन (Fish and Shrimp Farming) के तहत लाया जाएगा, जिससे इस क्षेत्र को एक नई दिशा मिलेगी।