home page

हरियाणा में बीमार पशुओं के लिए घर पर ही मिलेगी इलाज की सुविधा, खट्टर सरकार पशुधन एंबुलेंस सेवा को दिखाई हरी झंडी

हरियाणा के पशुपालकों (Livestock Farmers) के लिए एक बड़ी और सुखद खबर सामने आई है। राज्य सरकार ने पशुओं के कल्याण और उनके स्वास्थ्य के लिए एक अनूठी और प्रशंसनीय पहल शुरू की है।
 | 
haryana-govt-flags-off-livestock-ambulance

हरियाणा के पशुपालकों (Livestock Farmers) के लिए एक बड़ी और सुखद खबर सामने आई है। राज्य सरकार ने पशुओं के कल्याण और उनके स्वास्थ्य के लिए एक अनूठी और प्रशंसनीय पहल शुरू की है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल (CM Manohar Lal) के नेतृत्व में सरकार ने पशुओं के इलाज के लिए घर पर ही सेवाएं प्रदान करने की योजना की शुरुआत की है।

मोबाइल पशुधन एंबुलेंस है एक क्रांतिकारी कदम

इस मुहिम के अंतर्गत 11.20 करोड़ रुपये की लागत से खरीदी गई 70 मोबाइल पशुधन एंबुलेंस (Mobile Livestock Ambulance) वाहनों को हरियाणा के विभिन्न जिलों में तैनात किया गया है। इन एंबुलेंस वाहनों के माध्यम से बीमार पशुओं का इलाज उनके घरों पर ही किया जा सकेगा, जिससे समय और धन की बचत होगी और पशुओं को तत्काल चिकित्सा सहायता मिल सकेगी।

24×7 टोल फ्री नंबर की सुविधा

सरकार ने पशुपालकों की सुविधा के लिए 24×7 टोल फ्री नंबर 1962 (Toll Free Number) की शुरुआत की है। इस नंबर पर कॉल करके पशुपालक अपने बीमार पशुओं के लिए घर पर ही चिकित्सा सेवा की अनुरोध कर सकते हैं। इस पहल के जरिए सरकार ने न केवल पशुधन के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने की दिशा में एक मजबूत कदम उठाया है, बल्कि पशुपालकों के लिए एक आसान और सुगम चिकित्सा पहुंच भी प्रदान की है।

समय पर इलाज से पशुधन का स्वास्थ्य सुनिश्चित

कृषि मंत्री जेपी दलाल (Agriculture Minister JP Dalal) ने बताया कि इन एंबुलेंस वाहनों को GPS से लैस किया गया है, जिससे इनकी निगरानी और परामर्श सुविधाएँ सुनिश्चित हो सकें। यह पहल पशुपालकों को बड़ी राहत प्रदान करेगी, क्योंकि अब वे अपने पशुओं के बीमार होने पर तत्काल चिकित्सा सहायता प्राप्त कर सकेंगे।

हरियाणा सरकार की यह नई पहल पशुपालन उद्योग के लिए एक मील का पत्थर साबित होगी। मोबाइल पशुधन एंबुलेंस और 24×7 टोल फ्री नंबर की सुविधा से पशुपालकों को उनके पशुओं के बेहतर स्वास्थ्य प्रबंधन में मदद मिलेगी। यह पहल न केवल पशुओं के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करेगी, बल्कि पशुपालकों के जीवन को भी सरल बनाएगी, जिससे वे अधिक कुशलता से अपने पशुधन का रखरखाव कर सकेंगे।