home page

बारीश और ओलावृष्टि से हुए नुकसान का किसानों को मिलेगा मुआवजा, खट्टर सरकार ने किया ये ऐलान

हरियाणा की मनोहर सरकार (Manohar Govt) ने हाल ही में एक बड़ा फैसला लेकर सूबे के किसानों को बड़ी राहत प्रदान की है।
 | 
haryana-govt-removed-the-condition

हरियाणा की मनोहर सरकार (Manohar Govt) ने हाल ही में एक बड़ा फैसला लेकर सूबे के किसानों को बड़ी राहत प्रदान की है। 2 और 3 मार्च को हुई बेमौसमी बारिश (Untimely Rain) व ओलावृष्टि (Hailstorm) के कारण फसलों को हुए नुकसान पर सरकार ने विशेष ध्यान दिया है।

इस आपदा से प्रभावित किसानों को मुआवजा (Compensation) देने की प्रक्रिया में सरकार ने 5 एकड़ जमीन की शर्त को हटा दिया है। यह फैसला किसानों की लंबी चली आ रही मांग पर लिया गया है, जिससे उन्हें वास्तविक नुकसान के अनुसार मुआवजा प्राप्त हो सकेगा।

किसानों की चिंता पर सरकार का सकारात्मक कदम

इससे पहले किसान सिर्फ 5 एकड़ तक के नुकसान की रिपोर्ट ही क्षतिपूर्ति पोर्टल (Compensation Portal) पर अपलोड कर पा रहे थे, जिससे बड़े खेती वाले किसान वास्तविक नुकसान की भरपाई नहीं कर पा रहे थे। किसानों का कहना था कि बारिश और ओलावृष्टि से उन्हें भारी नुकसान हुआ है

और सरकार को उन्हें अपनी वास्तविक जमीन (Actual Land) के अनुसार नुकसान की रिपोर्ट अपलोड करने की अनुमति देनी चाहिए। इस समस्या को समझते हुए सरकार ने न केवल 5 एकड़ की शर्त को हटाया है, बल्कि किसानों को 15 मार्च तक अपने नुकसान की रिपोर्ट अपलोड करने का आदेश भी दिया है।

राहत प्रदान करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम

एक किसान ने बताया कि उसके पास 25 एकड़ जमीन (25 Acres Land) पर गेहूं की फसल (Wheat Crop) थी, जो बारिश और ओलावृष्टि के कारण खराब हो गई। लेकिन सरकार द्वारा निर्धारित 5 एकड़ की शर्त के कारण उसे अपने नुकसान का सही आकलन प्रस्तुत करने में कठिनाई हो रही थी। अब खट्टर सरकार (Khattar Govt) के इस निर्णय से निश्चित तौर पर किसानों को उनके नुकसान की सही मुआवजा राशि मिल सकेगी।