Warning: Undefined variable $id in /home/dharataltv/public_html/wp-content/themes/gp-sports-pro/functions.php on line 21

Warning: Undefined variable $id in /home/dharataltv/public_html/wp-content/themes/gp-sports-pro/functions.php on line 22

Warning: Undefined array key "gpDynamicDateType" in /home/dharataltv/public_html/wp-content/themes/gp-sports-pro/functions.php on line 24

शादी के बाद पति मांगे ये चीज तो पत्नी तुरंत कर दे हाँ, शादीशुदा जिंदगी में होगा ये बड़ा फायदा

By Vikash Beniwal

Published on:

आचार्य चाणक्य की नीतियों में से एक महत्वपूर्ण नीति यह बताती है कि पति को सुकून प्रदान करना पत्नी का एक प्रमुख कर्तव्य है। जब पुरुष किसी समस्या से परेशान होते हैं तो उन्हें अपनी साथी से विशेष समर्थन की अपेक्षा होती है। चाणक्य नीति के अनुसार पत्नी को चाहिए कि वह पति की चिंताओं को समझे और उन्हें सुकून मिले और जिससे उनका मन शांत हो सके। इससे न केवल पति का मन हल्का होता है बल्कि उनके बीच का रिश्ता भी मजबूत होता है।

प्रेम से करें पति को संतुष्ट

चाणक्य का कहना है कि पत्नी का यह भी कर्तव्य है कि वह पति के प्रेम की इच्छाओं को समझे और उन्हें प्रेम से संतुष्ट करे। पत्नी द्वारा पति की भावनाओं की कद्र करने से पति को भी यह प्रेरणा मिलती है कि वे भी अपनी पत्नी की इच्छाओं का सम्मान करें। चाणक्य नीति कहती है कि यह पारस्परिक समझ और समर्थन ही वैवाहिक जीवन को सफल बनाती है और इससे दोनों के बीच की गलतफहमियाँ भी दूर होती हैं।

वैवाहिक जीवन में दरार को रोकें

आचार्य चाणक्य की तीसरी और अंतिम नीति यह बताती है कि वैवाहिक जीवन में दरार ना आने देना दोनों साथियों का साझा कर्तव्य है। पति-पत्नी को चाहिए कि वे कभी भी एक-दूसरे से दूरी न बनने दें और छोटी-छोटी बातों को बड़ी समस्याओं में न बदलने दें। इसके लिए निरंतर संवाद और समझदारी बहुत जरूरी है। चाणक्य ने इस बात पर जोर दिया है कि समय-समय पर दोनों को एक-दूसरे की कमियों और विशेषताओं को स्वीकारना चाहिए।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.