IAS Ankita Choudhary: हरियाणा के छोटे कस्बे की लड़की ने IAS अफसर बनकर बढ़ाया गौरव, शुगर मिल में पिता करते है नौकरी

By Vikash Beniwal

Published on:

IAS Ankita Choudhary: रोहतक के महम गांव की रहने वाली अंकिता चौधरी ने जब इंटरमीडिएट के बाद दिल्ली के प्रतिष्ठित हिंदू कॉलेज से अपना ग्रेजुएशन पूरा किया तो उनके मन में भविष्य के लिए बड़े सपने और आकांक्षाएँ थीं। ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने पोस्ट ग्रेजुएशन में दाखिला लिया और अपनी उच्च शिक्षा को और आगे बढ़ाया। पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी शुरू की।

प्रथम प्रयास में असफलता का सामना

2017 में जब अंकिता ने पहली बार यूपीएससी की परीक्षा दी, तो वह सफल नहीं हो सकीं। हालांकि इस असफलता ने उनके हौसले को और भी मजबूत कर दिया। अंकिता ने अपनी कमियों का विश्लेषण किया और खुद को और बेहतर ढंग से तैयार करने की ठानी।

निजी जीवन में दुखद घटना

पढ़ाई के दौरान एक दुखद घटना घटी जब अंकिता की मां का एक सड़क हादसे में निधन हो गया। इस घटना ने अंकिता को गहरा धक्का दिया। लेकिन उन्होंने खुद को संभाला और अपनी मां को श्रद्धांजलि देने के लिए आईएएस अधिकारी बनने का संकल्प लिया। इस कठिन समय में उनके पिता ने उनका पूरा साथ दिया।

दूसरे प्रयास में मिली सफलता

अंकिता ने 2018 में अपने दूसरे प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा दी और इस बार उन्होंने ऑल इंडिया रैंक 14 हासिल की। उनकी इस उपलब्धि का श्रेय वे अपने पिता और अपनी कठिन मेहनत को देती हैं। अंकिता का कहना है कि सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा के लिए उत्तर लिखने का अभ्यास अत्यंत आवश्यक है।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.