Haryana School Summer Holidays: हरियाणा में स्कूलों की गर्मियों की छुट्टियों को लेकर शिक्षा विभाग ने लिया बड़ा डिसीजन, इस अधिकारी को दी छुट्टी घोषित करने की पॉवर

By Sunil-Beniwal

Published on:

Haryana School Summer Holidays: हरियाणा में इस समय भीषण गर्मी और लू का प्रकोप है। मई के महीने में तापमान 45 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है, जिससे लोगों का जीवन कठिन हो गया है। तेज धूप और लू के कारण आम जनता विशेष रूप से बच्चे अधिक प्रभावित हो रहे हैं। इस स्थिति को ध्यान में रखते हुए, हरियाणा सरकार ने शिक्षा विभाग को एक महत्वपूर्ण निर्णय लेने का निर्देश दिया है।

जिला उपायुक्तों को मिली छूट

हरियाणा सरकार ने शिक्षा विभाग के माध्यम से सभी जिला उपायुक्तों को अपने क्षेत्र के स्कूलों में छुट्टी करने का अधिकार दिया है। इस अधिकार का उद्देश्य बच्चों और शिक्षकों की सुरक्षा सुनिश्चित करना है। जिला उपायुक्त अब जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) और जिला प्राथमिक शिक्षा अधिकारी (डीईईओ) के परामर्श से स्कूलों में छुट्टी घोषित कर सकते हैं।

31 मई तक रहेगा अधिकार

सरकार द्वारा जारी किए गए पत्र के अनुसार जिला उपायुक्तों के पास यह अधिकार 31 मई तक रहेगा। इस दौरान वे अपने जिले की स्थिति को देखते हुए स्कूलों में छुट्टी कर सकते हैं। यदि गर्मी का प्रकोप और लू का असर कम नहीं होता है तो इस अवधि को आगे बढ़ाया भी जा सकता है।

बच्चों की सुरक्षा प्राथमिकता

बच्चों की सुरक्षा सरकार की प्राथमिकता है। भीषण गर्मी और लू के कारण बच्चों की सेहत पर गंभीर असर पड़ सकता है। खासकर छोटे बच्चे जो अधिक संवेदनशील होते हैं, उन्हें इस गर्मी में स्कूल भेजना खतरे से खाली नहीं है। इस निर्णय के माध्यम से सरकार ने यह सुनिश्चित करने का प्रयास किया है कि बच्चे सुरक्षित रहें और किसी भी प्रकार की स्वास्थ्य समस्या का सामना न करना पड़े।

शिक्षा विभाग की तैयारी

शिक्षा विभाग ने भीषण गर्मी और लू की स्थिति को देखते हुए विभिन्न तैयारियां की हैं। जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वे अपने क्षेत्र में मौजूदा तापमान और लू की स्थिति पर नजर रखें। इसके आधार पर वे जिला उपायुक्तों को सलाह देंगे कि कब और कहां छुट्टी की आवश्यकता है।

सरकारी स्कूलों के निर्देश

सरकारी स्कूलों को निर्देश दिया गया है कि वे बच्चों को गर्मी से बचाने के लिए उचित उपाय करें। स्कूलों में पीने के पानी की उचित व्यवस्था होनी चाहिए और बच्चों को धूप से बचाने के लिए आवश्यक सावधानियां बरती जानी चाहिए। यदि स्कूल में छुट्टी नहीं होती है तो भी बच्चों की सेहत का विशेष ध्यान रखा जाए।