Haryana News: हरियाणा के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वालों के लिए आई बड़ी खबर, खुशी से झूम उठेंगे बच्चे

By Vikash Beniwal

Published on:

साइंस और कंप्यूटर के छात्रों के लिए एक बड़ी खबर है। अब वे अपने पाठ्यक्रम की सामान्य शिक्षा के साथ-साथ व्यावहारिक ज्ञान भी प्राप्त कर सकेंगे। इसके लिए इसी सत्र से STEM (विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित) लैब स्थापित की जा रही हैं। इन लैबों में छात्रों को कोडिंग, एआई (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) और रोबोटिक्स जैसे कई विषय टैबलेट पर पढ़ाए जाएंगे।

13 जिलों में 50 STEM लैब की स्थापना

शिक्षा निदेशालय की ओर से इस सत्र में करनाल सहित प्रदेश के 13 जिलों में 50 STEM लैब स्थापित करने का काम चल रहा है। करनाल में पहले ही लैब स्थापित की जा चुकी हैं। सरकार इन प्रयोगशालाओं को 16-16 टैबलेट की दर से 800 टैबलेट उपलब्ध कराएगी। इस महीने के अंत तक ये टैबलेट आने की उम्मीद है ताकि छात्र शुरुआत से ही इन पर पढ़ाई करते हुए नए प्रयोग कर सकें।

आधुनिक तकनीक का उपयोग

विभाग की योजना के मुताबिक, इस विशेष लैब में कक्षा 6वीं से 12वीं तक के छात्र कोडिंग, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, रोबोटिक्स, 3डी प्रिंटिंग, ऑगमेंटेड रियलिटी टेक्नोलॉजी और ड्रोन उड़ाने में पारंगत होंगे। इन लैबों की खासियत यह है कि इनमें फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी से जुड़ी तीनों लैब एक साथ होंगी। इसके अलावा इनमें आधुनिक उपकरण भी लगाए गए हैं ताकि सामान्य ज्ञान आसानी से मिल सके।

नोडल अधिकारी की नियुक्ति

एगिलों रिसर्च प्राइवेट लिमिटेड नामक फर्म के सहयोग से स्थापित लैब में स्कूलों के कंप्यूटर साइंस या विज्ञान या आईटी शिक्षकों को एसटीईएम लैब का नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। यह लैब करनाल जिले के राजकीय कन्या मॉडल संस्कृति वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, रेवले रोड करनाल राजकीय मॉडल संस्कृति वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, घरौंडा और तरावड़ी में स्थापित की गई हैं।

STEM लैब के फायदे

STEM लैब के माध्यम से सक्रिय शिक्षण को प्रोत्साहित किया जाएगा और ज्ञान अधिक मूर्त और प्रासंगिक हो जाएगा। बच्चों को महत्वपूर्ण कौशल विकसित करने की प्रक्रिया में सक्रिय रूप से शामिल होने का अवसर मिलेगा। अलग अलग पृष्ठभूमि और क्षमताओं वाले छात्रों को STEM से संबंधित क्षेत्रों में करियर बनाने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार

गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के उत्कृष्टता हासिल करने के लिए, शिक्षा विभाग ने सरकारी स्कूलों में STEM प्रयोगशालाएं स्थापित की हैं। प्रत्येक लैब में 16-16 टैबलेट दी जाएंगी ताकि छात्र प्रयोग के दौरान इन पर भी अध्ययन कर सकें। इस महीने के अंत तक टैबलेट आने की उम्मीद है। इन लैबों के माध्यम से छात्रों को न केवल विज्ञान और तकनीक का व्यावहारिक ज्ञान मिलेगा, बल्कि वे इसे अपने दैनिक जीवन में भी लागू कर सकेंगे।

करियर के अवसर

STEM लैब के जरिए छात्रों को न सिर्फ पढ़ाई में बल्कि करियर के क्षेत्र में भी लाभ मिलेगा। कोडिंग, एआई, रोबोटिक्स और अन्य तकनीकी क्षेत्रों में पारंगत होने के बाद छात्रों के पास अनेक करियर विकल्प होंगे। वे तकनीकी विशेषज्ञ, वैज्ञानिक, इंजीनियर या रोबोटिक्स विशेषज्ञ बनने की दिशा में आगे बढ़ सकते हैं। इसके साथ ही 3डी प्रिंटिंग और ऑगमेंटेड रियलिटी जैसे क्षेत्रों में भी करियर के नए दरवाजे खुलेंगे।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.