सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले किसान के बेटे ने हासिल किया टॉप रैंक, जिंदगी में IAS बनने का है सपना

By Vikash Beniwal

Published on:

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने हाल ही में कक्षा 12वीं के कला, वाणिज्य, और विज्ञान वर्ग के परिणाम घोषित किए हैं। इस वर्ष राज्य के करीब 8 लाख 66 हजार 270 छात्रों ने परीक्षा में भाग लिया था। परिणामों की घोषणा के साथ ही कई छात्रों की कड़ी मेहनत और लगन की कहानियां सामने आई हैं जिनमें से एक हैं सोनू यादव।

सोनू यादव की सफलता

नीमकाथाना क्षेत्र के टाटाला गांव के रहने वाले सोनू यादव ने कला वर्ग में 93.60% अंक प्राप्त किए हैं। सोनू ने यह सफलता बिहार के पटना स्थित एक सरकारी स्कूल में अध्ययन करते हुए हासिल की। उन्होंने बताया कि उन्होंने रोजाना 8 घंटे की पढ़ाई की और पढ़ाई के दौरान कभी भी मोबाइल का उपयोग नहीं किया।

सोनू की प्रेरणास्रोत

सोनू के पिता राजपाल यादव एक सामान्य किसान हैं और उनकी माता सुनीता देवी गृहिणी हैं। सोनू ने मीडिया से बातचीत में कहा कि उनके पिता ने हमेशा शिक्षा के प्रति एक सकारात्मक नजरिया रखा और उनकी यही पॉजिटिव एनर्जी उन्हें आगे बढ़ने की प्रेरणा देती रही। उनके परिवार में दो बहनें भी हैं जो कॉलेज में पढ़ाई करते हुए सरकारी नौकरी की तैयारी कर रही हैं।

सोनू का भविष्य का सपना

सोनू यादव का सपना है कि वे भारतीय प्रशासनिक सेवा में शामिल हों और एक IAS अधिकारी बनें। उनका उद्देश्य है कि वे ग्रामीण क्षेत्रों के दबे-कुचले वर्ग के लोगों की मदद कर सकें और सरकारी स्कूलों को प्राइवेट स्कूलों के समान सुविधाएँ दिलाए।

स्कूली शिक्षा में शिक्षकों की भूमिका

सोनू ने अपनी स्कूली शिक्षा में शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका को स्वीकार किया। उन्होंने विशेष तौर पर संजय सर की प्रशंसा की जिन्होंने तीन विषयों को पढ़ाते हुए उन्हें और उनके साथियों को खास शिक्षा मिली। संजय सर की पढ़ाई के तरीके ने सभी छात्रों को अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद की।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.