10 हजार का खर्चा करके शुरू कर सकते है ये कमाल का बिजनेस, इस तकनीक को अपना लिया तो चमक उठेगी किस्मत

By Vikash Beniwal

Published on:

उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले में सैकड़ों किसान इन दिनों मिर्च की खेती करके अच्छी खासी कमाई कर रहे हैं। इस खेती की खासियत यह है कि यह कम लागत में तैयार हो जाती है और मंडी पहुंचते ही इससे मोटी कमाई होती है। मिर्च की खेती ने कड़वी होने के बावजूद किसानों के जीवन में मिठास घोल दी है।

जिले की मिट्टी और मिर्च की खेती

फर्रुखाबाद जिले की मिट्टी मिर्च की फसल के लिए बेहद उपयुक्त मानी जाती है क्योंकि यहाँ की मिट्टी में पानी की निकासी उचित होती है। किसान एक बार पौधे लगाने के बाद अनेक बार उससे कमाई कर लेते हैं जिससे उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार होता है।

स्थानीय किसानों की रणनीति

कमालगंज क्षेत्र के किसान विजय कुमार ने बताया कि उन्होंने अपने खेतों में सुईया मिर्च उगाई है जो कि 90 दिनों में तैयार होती है और दो महीने तक फल देती रहती है। एक बीघा जमीन पर मिर्च उगाने में 10 से 15 हजार रुपए का खर्च आता है और एक बार फसल तैयार होने के बाद 50 से 60 हजार रुपए की कमाई हो जाती है।

उन्नत कृषि तकनीकों का प्रयोग

इन किसानों ने अपने खेतों में आधुनिक टपक सिंचाई पद्धति को अपनाया है जिससे हर पौधे की जड़ तक सीधे पानी पहुंचता है। इस विधि से पानी की बचत तो होती ही है साथ ही फसल में खरपतवार की समस्या भी नहीं होती। इसके परिणामस्वरूप फसल की पैदावार में भी इजाफा होता है।

जैविक खेती को बढ़ावा

विजय कुमार ने यह भी बताया कि मिर्च के पौधे की पत्तियों को वह निकालकर जैविक खाद में मिलाते हैं जिससे कीटाणुओं का नष्ट होना सुनिश्चित होता है। पौधे की लकड़ियों को वे ईंधन के रूप में प्रयोग करते हैं और मिर्च की पत्तियों को खेतों में डालकर उर्वरकता बढ़ाते हैं।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.