home page

Joint Bank Account: बैंक में ज्वाइंट अकाउंट खुलवाने से होते है ये फायदे, बहुत कम लोग ही जानते है ये बातें

Joint Bank Account: आज के समय में वित्तीय सुरक्षा और संचालन की सुविधा को बढ़ाने के लिए ज्वाइंट बैंक अकाउंट का चलन तेजी से बढ़ रहा है।
 | 
joint-bank-account-there-is-a-tremendous

Joint Bank Account: आज के समय में वित्तीय सुरक्षा और संचालन की सुविधा को बढ़ाने के लिए ज्वाइंट बैंक अकाउंट का चलन तेजी से बढ़ रहा है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) द्वारा इस प्रकार के खातों के लिए दिए गए दिशा-निर्देशों के अनुसार दो या उससे अधिक व्यक्ति मिलकर एक ज्वाइंट अकाउंट खोल सकते हैं।

यह खाता न केवल व्यापारिक साझेदारों के लिए बल्कि पति-पत्नी या परिवार के अन्य सदस्यों के लिए भी बेस्ट हो सकता है। इस प्रकार के खातों में खाताधारकों के नाम से डेबिट कार्ड भी जारी किए जा सकते हैं जो वित्तीय लेनदेन को और भी आसान बनाते हैं।

ज्वाइंट अकाउंट में मिलती है ये सुविधा

ज्वाइंट अकाउंट की सबसे बड़ी खूबी यह है कि इसमें कोई भी खाता धारक जमा राशि का निकास कर सकता है। इस प्रकार के खाते दो प्रकार के हो सकते हैं: स्थायी या अस्थायी। अगर खाता धारकों में से किसी एक की मृत्यु हो जाती है तो अन्य व्यक्ति इसे संचालित कर सकता है जो कि वित्तीय सुरक्षा का एक महत्वपूर्ण पहलू है।

माइनर अकाउंट है नन्हे खाताधारकों के लिए

बच्चों के लिए भी बैंक खाते खोले जा सकते हैं, जिन्हें माइनर अकाउंट कहा जाता है। ये खाते माता-पिता के साथ संयुक्त रूप से खोले जाते हैं, जिसमें माता-पिता ही नाबालिग की ओर से खाते का उपयोग करते हैं। इससे बच्चों के नाम से जमा पैसे की सुरक्षा सुनिश्चित होती है और साथ ही उन्हें सेविंग की जरुरत के बारे में भी शिक्षित किया जा सकता है।

एनिवन या सर्वाइवर है साझेदारी की सुविधा

जब दो या अधिक व्यक्ति मिलकर एक ज्वाइंट अकाउंट खोलते हैं, तो इसे एनिवन या सर्वाइवर खाता कहते हैं। इस प्रकार के खाते में जमाकर्ताओं में से कोई भी किसी भी समय खाते का उपयोग कर सकता है। यह खाता विशेष रूप से उन व्यापारिक साझेदारियों या परिवारों के लिए उपयोगी होता है जहाँ सभी सदस्यों को समान रूप से वित्तीय अधिकारों की आवश्यकता होती है।

फॉर्मर या सर्वाइवर बैक अकाउंट

एक और प्रकार का ज्वाइंट अकाउंट है 'फॉर्मर या सर्वाइवर' जिसमें पहला खाताधारक ही मुख्य रूप से अकाउंट का उपयोग कर सकता है। उनकी मृत्यु के बाद ही दूसरा व्यक्ति इस खाते को उपयोग कर पाता है। इस प्रकार के खाते में विशेष दस्तावेज जैसे कि मृत्यु प्रमाण पत्र  की आवश्यकता होती है जो संबंधित व्यक्ति के निधन की पुष्टि करते हैं।