गर्मियों में गाड़ी के टायरों में कितनी रखनी चाहिए हवा, इससे ज्यादा प्रेसर हुआ तो हो सकती है दिक्क्त

By Vikash Beniwal

Published on:

टायर किसी भी गाड़ी के सबसे महत्वपूर्ण भागों में से एक हैं। सही ढंग से रखरखाव किए गए टायर न केवल गाड़ी की उम्र बढ़ती हैं बल्कि ड्राइविंग को सुरक्षित भी बनाते हैं। टायरों में सही हवा का दबाव उनकी कार्यक्षमता और उनके जीवन को प्रभावित करता है। प्रत्येक वाहन के लिए टायर प्रेशर की अलग-अलग सिफारिशें होती हैं जिसे सही रखना चाहिए।

टायर प्रेशर का महत्व

टायरों में उचित हवा का दबाव होने से न केवल गाड़ी की माइलेज बढ़ती है बल्कि ड्राइविंग सुरक्षा में भी बढ़ोतरी होती है। यह गाड़ी के अगले और पिछले हिस्से में भार के अनुसार भिन्न हो सकता है। अगर गाड़ी का वजन अधिक है तो उसे अधिक हवा के दबाव की आवश्यकता होती है।

एयर प्रेशर का निर्धारण

टायर का सही एयर प्रेशर निर्धारित करना वाहन के मॉडल, टायर के प्रकार और उसकी कंडीशन पर निर्भर करता है। आमतौर पर यह जानकारी गाड़ी के यूजर मैनुअल में मिल जाती है। टायर निर्माता कंपनियां जैसे कि अपोलो टायर्स भी अपनी वेबसाइट पर इस संबंध में मार्गदर्शन मिलता हैं।

विभिन्न गाड़ियों के लिए टायर प्रेशर की सिफारिशें

उदाहरण के लिए, मारुति सुजुकी ऑल्टो 800 में टायरों के लिए 29 PSI वैगन आर के लिए 33 PSI और डिजायर में अगले टायरों के लिए 36 PSI का दबाव उचित माना गया है। अन्य ब्रांड्स जैसे कि हुंडई, टाटा, और होंडा के मॉडलों के लिए भी अलग-अलग PSI दबाव की सिफारिशें हैं।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.