home page

कारों के 5 ऐसे फिचर्स जो ड्राइविंग में नही आते कोई काम, फिर भी लोग पानी की तरह बहाते है इनपर पैसा

टेक्नोलॉजी के इस युग में जब हम तेजी से आगे बढ़ रहे हैं ऑटोमोबाइल क्षेत्र में भी इनोवेशन की लहर है। कारों में नई तकनीकी विशेषताओं का समावेश न केवल उत्साह बढ़ाता है
 | 
useless-car-features-ridiculous-car-features-weird-car-features-useless-features-in-cars

टेक्नोलॉजी के इस युग में जब हम तेजी से आगे बढ़ रहे हैं ऑटोमोबाइल क्षेत्र में भी इनोवेशन की लहर है। कारों में नई तकनीकी विशेषताओं का समावेश न केवल उत्साह बढ़ाता है बल्कि यात्रा को और अधिक सुविधाजनक और सुरक्षित भी बनाता है। हालांकि कुछ फीचर्स ऐसे हैं जिनकी उपयोगिता पर गौर किया जाना चाहिए।

सनरूफ

सनरूफ आज के समय में कारों में एक लोकप्रिय विशेषता बन चुकी है। जहां यूरोपीय देशों में इसकी उपयोगिता देखने को मिलती है वहीं भारत जैसे उष्णकटिबंधीय देशों में इसकी मौजूदगी पर सवाल उठते हैं। गर्मी और धूल को देखते हुए सनरूफ का उपयोग कम ही हो पाता है।

ऑटोमैटिक हेडलाइट्स

ऑटोमैटिक हेडलाइट्स रात के समय या कम रोशनी में ऑटमैटिक चालू हो जाती हैं। यह एक सुविधाजनक फीचर है लेकिन कई बार ये सेंसर खराब मौसम की स्थितियों को सही से पहचान नहीं पाते। ऐसे में ड्राइवर द्वारा हेडलाइट्स का मैनुअल कंट्रोल करना अधिक विश्वसनीय साबित होता है।

रेन सेंसिंग वाइपर्स

बारिश का पता लगाकर ऑटमैटिक एक्टिव होने वाले वाइपर एक हाईटेक टेक्नॉलजी है। हालांकि बारिश की तीव्रता के अनुसार वाइपर्स की गति को समझने में यह हमेशा सही नहीं होते। इसलिए कई बार मैनुअल कंट्रोल अधिक कारगर हो सकता है।

जेस्चर कंट्रोल

जेस्चर कंट्रोल से विभिन्न कार्यों को बिना किसी बटन दबाए ही संचालित किया जा सकता है। यह लेटेस्ट तकनीक का परिणाम है लेकिन कभी-कभी इसके उपयोग से ड्राइवर का ध्यान भटक सकता है। आसान और सीधे कंट्रोल फ़ंक्शन अक्सर सही लगने लगते है।

वॉयस कमांड

वॉयस कमांड के जरिए विभिन्न फंक्शन्स को आवाज़ के माध्यम से कंट्रोल करना संभव है। यह फीचर ड्राइविंग के दौरान हाथों को फ्री रखता है लेकिन कई बार यह सिस्टम सटीकता में कमी दिखाता है। महत्वपूर्ण फंक्शन्स के लिए मैनुअल कंट्रोल प्राथमिकता दी जा सकती है।